Kolkata: खूनी मां ने समलैंगिक रिश्ता बचाने के खातिर मासूम बच्चे को उतारा मौत के घाट, मामले से फैली सनसनी

Kolkata: पश्चिम बंगाल के उत्तर पाड़ा में एक मां और उसकी सहेली ने बेरहमी से अपने ही बच्चे का कत्ल कर दिया। अपना समलैंगिक रिश्ता बचाने के लिए बच्चे की बलि चढ़ा दी।
Kolkata Murder
Kolkata Murder Raftaar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। पश्चिम बंगाल के उत्तर पाड़ा में एक खौफनाक और दिल दहला देने वाली वारदात को अंजाम दिया गया है। एक मां ने अपने 10 साल के मासूम बेटे की दर्दनाक हत्या कर दी है। बच्चे ने अपनी मां को उसकी सहेली के साथ आपत्तिजनक स्थिति में पाया था। जिसके बाद बच्चे की बेरहमी से हत्या कर दी।

मां और सहेली ने की बच्चे की हत्या

बंगाल के हुगली जिले के उत्तर पाड़ा में 10 वर्षीय श्रेयांशु शर्मा अपनी मां के शांता शर्मा के साथ रहता था। वह चौती कक्षा का छात्र था। हाल ही में उसने अपनी मां और उसकी सहेली इशरत परवीन को आपत्तिजनक स्थिति में पाया था। दोनों महिलाओं के समलैंगिक संबंध थे। बच्चे की मां और उसकी सहेली को डर था कि बच्चा बाहर कहीं ये बात किसी को बता न दे। समाज में अपनी झूठी इज्जत और शान बचाने के लिए दोनों महिलाओं ने बच्चे का बेरहमी से कत्ल कर दिया।

कैसे की हत्या?

बच्चे की मां और सहेली ने अपने समलैंगिक संबंधों का राज छिपाने के लिए 18 फरवरी की शाम बच्चा जब सो रहा था, दोनों महिलाओं ने मिलकर बच्चे की हत्या को अंजाम दिया। नींद में बच्चे के सिर पर ईंट मारी, उसके बाद गणेश भगवान की मूर्ति से बच्चे के सिर पर हमला किया। इससे भी जब दोनों हत्यारनों का मन नहीं भरा तो उन्होंने बच्चे के हाथ की नस काट दी। फिर भी दोनों महिलाओं के कलेजे को ठंडक नहीं मिली इसके बाद दोनों ने मिलकर बच्चे पर चाकू से लगातार हमला किया। घर से बुहत चिखने-चिल्लाने की आवाजें आने पर मोहल्ले के लोग इकठ्ठा हो गए और शोर मच गया कि चौथी क्लास के बच्चे की मर्डर हो गया है।

पुलिस जांच में हत्या का हुआ खुलासा?

पुलिस मौका ए वारदात पर घटनास्थल पर पहुंची और मामले की जांच शुरु कर दी। उत्तर पाड़ा जिले के श्रीरामपुर के डीसीपी अर्णब विश्वास की टीम ने जब हत्या की इस गुत्थी को सुलझाना शुरु किया। पुलिस को बताया गया था कि घटना के समय घर पर बच्चे के अलावा कोई नहीं था।पुलिस को शक था कि कहीं लूटपाट के कारण बच्चे की हत्या को अंजाम दिया गया है। मगर वहां ऐसा कोई साबूत नहीं मिला क्योंकि घर पर सब सामान सुरक्षित अपनी जगहों पर था। श्रेयांशु के घर पर एक पालतू कुत्ता भी था जो अंजान लोगों को देखने से भौंकता था। ऐसे में शक किसी जान-पहचान पर जाना संभव है, क्योंकि कोई अजनबी अगर घर पर घटना के समय घुसता तो कुत्ता जरुर भौंकता। पड़ोसियों से पूछताछ करने पर पता चला कि वारदात के समय कुत्ते के भौंकने की कोई आवाज नहीं आई थी। इसके बाद पुलिस ने श्रेयांशु की मां की सहेली इशरत परवीन से पूछताछ शुरु की। इशरत परवीन ने अपना जुर्म कुबुला और सारी सच्चाई पुलिस को बताई।

इशरत परवीन ने बताई सच्चाई

पुलिस को इशरत परवीन ने बताया कि श्रेयांशु की मां से उसके शारीरिक संबंध शादी से पहले से थे। श्रेयांशु के पिता को इस बारे में पता था लेकिन उन्होंने इस बारे में किसी को कुछ नहीं बताया। इसके बाद पुलिस ने दोनों महिलाओं को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस को मोबाइल की कॉल डिटेल, सीडीआर, मौका ए वारदात पर मौजूद फिंगर प्रिंट सहित दोनों के खिलाफ कई सबूत मिले हैं। कत्ल के पीछे की कहानी जानकर सबके रौंगटे खड़े हो गए।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.