Ram Mandir: प्राण प्रतिष्ठा के बाद अखिलेश यादव ने बताया 'राम राज' का असल मतलब

Lucknow: अयोध्या में भव्य श्रीराम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के बाद अखिलेश यादव ने राम राज का असल मतलब बताया है।
Ram Mandir 
Akhilesh Yadav
Ram Mandir Akhilesh Yadav Raftaar.in

लखनऊ, हि.स.। अयोध्या में भव्य श्रीराम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा को लेकर समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि पत्थर की मूर्ति प्राण प्रतिष्ठा के बाद भगवान का रूप ले लेगी। उन्होंने कहा कि भगवान श्री राम की प्राण प्रतिष्ठा का जो कार्यक्रम है, जो मूर्ति पत्थर की थी आज प्राण प्रतिष्ठा के बाद भगवान का रूप ले ली।

मर्यादा पुरुषोत्तम जी ने रामराज्य की कल्पना की

उन्होंने कहा कि जो मर्यादा पुरुषोत्तम जी ने रामराज्य की कल्पना की थी, जहां गरीब दु:खी न रहें, नौजवान खुशहाल हों और आगे बढ़ें तथा सब प्रसन्न हों, उस रास्ते पर हम-सब चलेंगे।
सपा अध्यक्ष ने कहा कि आज हम सब समाजवादी लोग जनेश्वर मिश्र को याद करते हैं। पूरे जीवन भर जनेश्वर जी गरीब, पिछड़े, दलित, जिनका जीवन अभाव में रहा उनके लिए संघर्ष करते रहे। उन्होंने हमेशा समाजवादी आंदोलन को आगे बढ़ाया।

'प्राण प्रतिष्ठा' समारोह

अयोध्या में श्री राम मंदिर परिसर में आज 12:30 मिनट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रामलला की 'प्राण प्रतिष्ठा' समारोह की अध्यक्षता करते हुए, रामलला का भव्य स्वागत किया। राम मंदिर का उद्घाटन भारत के सांस्कृतिक और धार्मिक इतिहास में एक महत्वपूर्ण क्षण है जो न केवल देश बल्कि वैश्विक दर्शकों का भी ध्यान आकर्षित करता है।

कौन हुए कार्यक्रम शामिल?

'प्राण प्रतिष्ठा' के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के चीफ डॉ मोहन भागवात, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और पूजा सम्पन्न कराने के लिए ब्राहमणों का एक दल उपस्थित रहा। इस दौरान रामलला की बाल समय की मूर्ति को प्रधानमंत्री मोदी ने फूत अर्पित किए।

पूरा हुआ करोड़ों लोगों का सपना

राममय हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'मृगशिरा नक्षत्र' में राम लला की प्राण प्रतिष्ठा की। सिर्फ 84 सेकंड में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यजमान के रुप में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा की पूजा सम्पन्न की है। सही समय, यही विधि और पूरे मंत्रोच्चार के साथ यह विधि सम्पन्न हुई।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.