राधिका खेड़ा ने छोड़ी कांग्रेस- राम मंदिर जाने से नाराज थी पार्टी, अभद्रता करने वाले नेता पर ऐक्शन नहीं लिया

Radhika Khera का कहना है कि मार्च में उन्होंने अयोध्या के राम मंदिर में दर्शन किए। जिसके बाद से पार्टी के नेता उनसे नाराज़ चल रहे थे।
Radhika Khera
Radhika Kheraraftaar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। राधिका खेड़ा ने कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। राधिका खेड़ा के साथ छत्तीसगढ़ कांग्रेस कार्यालय में हुई अभद्रता का उन्होंने खुलासा कर दिया है। उनका कहना है कि राम मंदिर बनने के बाद वह भी भगवान राम के दर्शन करना चाहती थी। उन्हें उद्घाटन के समय राम मंदिर जाने का समय नहीं मिल पाया था।

भगवान राम के दर्शन किए, जिससे पार्टी के नेता नाराज हो गए

लेकिन उन्होंने समय निकालकर 27 मार्च 2024 को अयोध्या जाकर, भगवान राम के दर्शन किए। जिसकी फोटो उन्होंने अपने सोशल मीडिया अकाउंट में भी अपडेट किया था। जिसके बाद से कांग्रेस के कई बड़े नेता उनके इस व्यवहार से नाराज हो गए और इसको लेकर आपत्ति जताई। जब राधिका खेड़ा ने 4-5 अप्रैल को छत्तीसगढ़ जाकर अपना कार्य करना शुरू किया तो उन्हें प्रदेश कांग्रेस नेताओं द्वारा परेशान किया जाने लगा। लेकिन 30 अप्रैल को उनके साथ प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में अभद्रता की हद पार कर दी गयी। उनके साथ धक्कामुक्ति की गई। उन्हें कमरे में बंद कर दिया गया। वह चीखती-चिल्लाती रही और गुहार लगाती रही। लेकिन किसी ने भी इनके साथ न्याय नहीं किया। उनका कहना है कि उन्होंने छोटे से लेकर बड़े नेता तक न्याय की मांग की थी। लेकिन किसी ने उनकी बात नहीं सुनी। जिसके बाद उन्होंने पार्टी को छोड़ने का निर्णय लिया। राधिका खेड़ा ने कहा कि उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि उनके साथ कभी इस तरह का व्यवहार किया जायेगा। राधिका खेड़ा ने छत्तीसगढ़ कांग्रेस नेता सुशील आनंद शुक्ला पर अभद्रता करने के गंभीर आरोप लगाए हैं।

इसके बावजूद 30 अप्रैल 2024 को उनके साथ अभद्रता की हद पार कर दी गई

राधिका खेड़ा ने एक इंटरव्यू में बताया है कि छत्तीसगढ़ कांग्रेस नेता सुशील आनंद शुक्ला ने उन्हें पहले भी परेशान करने की कोशिश की थी। यह बात है राहुल गांधी के भारत जोड़ो न्याय यात्रा निकालने की और राधिका खेड़ा उस समय छत्तीसगढ़ यात्रा की प्रभारी थी। तभी से सुशील आनंद शुक्ला ने उनके साथ अभद्रता करने की कोशिश की थी। राधिका खेड़ा ने बताया कि उस दौरान वह कोरबा में जिस होटल में ठहरी थी, सुशील आनंद शुक्ला उनसे यह जानने की कोशिश करता था कि वह कौनसे कमरे में ठहरी हुई हैं। वह उनको शराब भी ऑफर करते थे। राधिका खेड़ा ने कहा कि इस घटना की गवाह दो लड़कियां भी हैं। राधिका खेड़ा ने कहा कि इसकी जानकारी पार्टी के बड़े नेताओं को भी दी थी। लेकिन उन्होंने कोई कार्रवाई नहीं की। राधिका ने बताया कि वह इस तरह के नेताओं से दुरी बनाई हुई थी। लेकिन इसके बावजूद 30 अप्रैल 2024 को उनके साथ अभद्रता की हद पार कर दी गई।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.