Vastu Tips: जानिए मंदिर की घंटी से जुड़ा वास्तु नियम, क्या आप भी करते हैं ये गलतियां?

हर व्यक्ति पूजा पाठ करने के लिए मंदिर जाता है और वहां लगी घंटी को बजाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं वास्तु के अनुसार घंटी बजाने और घंटी लाने तक का सही नियम बताया गया है।
Vastu Tips of Temple Bell
Vastu Tips of Temple Bell www.raftaar.in

नई दिल्ली,रफ्तार डेस्क।16May 2024। पूजा में इस्तेमाल होने वाली कई चीजे हैं जिनका अलग-अलग नियम है। लेकिन मंदिर में बजाने वाली घंटी से जुड़ी ऐसी कई बातें हैं जिन्हें आपको पता होना चाहिए। क्योंकि अगर आप वास्तु के अनुसार इसका गलत प्रयोग कर रहे हैं तो इससे आपके सफलता के मार्ग बंद हो जाते हैं।

मंदिर की घंटी का ये अनोखा नियम

जरूर बजाएं घंटी

वास्तु शास्त्र के अनुसार अगर आप पूजा कर रहे हैं तो मंदिर हो या घर घंटी बजना बहुत जरूरी होता है। घंटी के माध्यम से ही आप अपनी इच्छाएं भगवान तक पहुंचाते हैं। यूं कहा जाए कि पूजा में इस्तेमाल होने वाली घंटी संदेश पहुंचाने का जरिया होती है।

नेगेटिविटी होगी दूर

अगर आपको लगता है कि आपके घर में काफी ज्यादा नेगेटिविटी हो गई है या फिर हर रोज लड़ाई झगड़े का माहौल बन रहा है। तो आप पूजा करते समय पूरे घर में घंटी बजाए। इसके साथ ही कपूर का दिया भी दिखाएं।

घंटी की दिशा

घर के मंदिर में घंटी हमेशापूजा की मूर्तियों के बाईं ओर रखनी चाहिए। घंटी को हमेशा ऐसे उठाएं कि आपका दाहिना हाथ घंटी के ऊपरी हिस्से पर होना चाहिए। पूजा की घंटी कभी भी मंदिर के दक्षिण दिशा की ओर न रखें।

इस समय न बजाएं घंटी

जब आप मंदिर जाएं तो घंटी बजाकर जल्दी से आगे न बढ़ जाएं बल्की बजाती हुई घंटी की आवाज सुने आपके अंदर की नकारात्मकता दूर होगी और सकारात्मक ऊर्जा आएगी। इसके साथ ही मंदिर से जब जाने लगे तब घंटी ना बजाएं वरना इसका कलर प्रभाव पड़ता है। ऐसा करने से आपके अंदर प्रवेश हुई सकारात्मक ऊर्जा नष्ट हो जाती है। और मंदिर जाकर प्रार्थना करने का भी कोई फल नहीं मिलता।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.