योगी ने कहा- UP में अब पारदर्शी तरीके से हो रही भर्तियां, पहले हुआ करते थे दंगे; जानें क्या क्या बोले CM?

सुशासन महोत्सव 2024: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राज्य की पूर्ववर्ती सपा सरकार में दंगे होते थे, लेकिन अब सभी पर्व एवं त्योहार शांतिपूर्वक मनाए जाते हैं।
Yogi Adityanath
Yogi Adityanathraftaar.in

लखनऊ, (हि.स.)। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राज्य की पूर्ववर्ती सपा सरकार में दंगे होते थे, लेकिन अब सभी पर्व एवं त्योहार शांतिपूर्वक मनाए जाते हैं। प्रदेश में अब एक भी दंगा नहीं होता। प्रदेश में अब भर्ती प्रक्रिया पारदर्शी तरीके से चल रही है, बिना भेदभाव के काम होता है।

सरकार के सात वर्ष पूरे होने जा रहे हैं

मुख्यमंत्री योगी नई दिल्ली के अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर में आयोजित दो दिवसीय 'सुशासन महोत्सव 2024' को वर्चुअली संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश एक नई पहचान के साथ आपके सामने है। सरकार के सात वर्ष पूरे होने जा रहे हैं। 2017 से पहले की स्थिति से सब परिचित हैं। बिना भेदभाव कानून का पालन हो रहा है। शासन की योजनाओं से लोग लाभान्वित हो रहे हैं। हमने टेक्नोलॉजी का बेहतर उपयोग किया। पहले लोग उत्तर प्रदेश आना नहीं चाहते थे। आज निवेश के प्रस्ताव बड़ी मात्रा में आ रहे हैं।

पीएम विश्वकर्मा योजना से हम कारीगरों को लाभान्वित कर रहे हैं

आदित्यनाथ ने कहा कि परम्परागत हस्तशिल्पी व कारीगरी से ग्राम स्वराज की परिकल्पना साकार हो रही है। प्रदेश के परम्परागत उद्यम को हम बढ़ावा दे रहे हैं। पीएम विश्वकर्मा योजना से हम कारीगरों को लाभान्वित कर रहे हैं। चीनी उद्योग आज आत्मनिर्भर है। प्रदेश में समान रूप से बिजली मिल रही है। पहले केवल पांच सात जिलों में ही बिजली मिलती थी।

'सुशासन महोत्सव 2024' का आयोजन रामभाऊ म्हालगी प्रबोधिनी ने किया है

उल्लेखनीय है कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने शुक्रवार शाम को नई दिल्ली के अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर में दो दिवसीय 'सुशासन महोत्सव 2024' का उद्घाटन किया। 'सुशासन महोत्सव 2024' का आयोजन रामभाऊ म्हालगी प्रबोधिनी ने किया है। महोत्सव का मकसद मोदी सरकार के कार्यकाल के दौरान सभी क्षेत्रों के विकास कार्यों और सुशासन के प्रमुख बिंदुओं को देश के सामने रखना है। इस महोत्सव के दूसरे दिन उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत कई प्रमुख नेता वर्चुअल रूप से जुड़े।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.