जयंत चौधरी का बीजेपी के साथ जाने से बदल जाएगा पश्चिमी यूपी का गणित, सपा को लगेगा झटका

रालोद अध्यक्ष जयंत चौधरी के एक फैसले ने यूपी राज्यसभा की सीटों का समीकरण बिगाड़ कर रख दिया।  जयंत एनडीए के साथ जाने पर हामी भर चुके है। ऐसे में राज्यसभा में समाजवादी पार्टी को झटका लग सकता है।
Jayant Chaudhary joins NDA
Jayant Chaudhary joins NDASocial media

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। राज्यसभा चुनाव से पहले रालोद के अध्यक्ष जयंत चौधरी ने इंडिया गठबंधन को करारा झटका दिया है। जयंत चौधरी ने एनडीए में शामिल होने का ऐलान कर दिया है। जयंत ने साफ कर दिया है कि वह आने वाले लोकसभा चुनाव में एनडीए के साथ रहेंगे। वहीं  विधायकों की नाराजगी को लेकर जयंत ने स्पष्ट कर दिया है कि सभी विधायकों से बातचीत हो गई है। वह हमारे साथ हैं। मेरे दादाजी यानी पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह को भारत रत्न से सम्मानित किया जा रहा है। यह मेरे परिवार और किसान भाइयों के लिए सम्मान की बात है। आपको बता दें कि रालोद का एनडीए  में शामिल होने के बाद पश्चिमी यूपी में इस गठबंधन का असर दिखने लगा है।

पश्चिमी यूपी का सियासी गणित

आगामी 27 फरवरी को राज्यसभा का चुनाव होना है बीजेपी ने अपनी लिस्ट जारी कर दी है। बीजेपी यूपी से 7 उम्मीदवारों को राज्यसभा भेज रही है। जिसमें पश्चिमी यूपी से तीन उम्मीदवार हैं। रालोद और बीजेपी के गठबंधन के बाद सियासी गणित बिल्कुल साफ दिख रहा है। पश्चिमी यूपी के सांसद भंवर सिंह को लग रहा था कि उन्हें राज्यसभा भेजा जाएगा। लेकिन उनका नाम लिस्ट में नहीं। इससे पश्चिमी यूपी में सियासी सुखा नजर आ रहा है। आपको बता दे कि यूपी की 10 राज्यसभा सीटों के लिए चुनाव होना है। बहरहाल जयंत चौधरी का साथ आगामी लोकसभा चुनाव के लिए काफी फायदेमंद साबित होने वाला है। वहीं समाजवादी पार्टी को तगड़ा झटका लगना लाजमी है।

पिछले चुनाव में क्या हुआ था?

पश्चिमी यूपी में लोकसभा की कुल 27 सीटे हैं और यहां पर जाट, किसान और मुस्लिम वोटरों का दबदबा है। पिछले चुनाव में  पश्चिमी यूपी की 27 में से 19 सीटों पर भाजपा ने जीत हासिल की थी।  जबकि आठ पर गठबंधन ने जीत हासिल की  लेकिन हैरानी वाली बात यह है कि आरएलडी को एक भी की सीट पर जीत हासिल नहीं हुई।  पश्चिमी यूपी में किसानों की पैरवी करने वाले जयंत चौधरी को जाटों का वोट नहीं मिला। इससे पहले 2014 के लोकसभा चुनाव में भी रालोद के खाते में एक भी सीट नहीं आई थी।  ऐसे में बीजेपी का रालोद का साथ थोड़ा चिंताजनक जरूर हो सकता है।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें- Hindi News Today: ताज़ा खबरें, Latest News in Hindi, हिन्दी समाचार, आज का राशिफल, Raftaar - रफ्तार:

Related Stories

No stories found.