MP News: प्रधानमंत्री मोदी ने देवास की रुबीना बी से कहा- आपके पास कार है, मेरे पास साइकिल भी नहीं; जानें मामला

MP News: प्रधानमंत्री मोदी बुधवार को देवास जिले के ग्राम जामगोद में विकसित भारत संकल्प यात्रा के लाभार्थियों से संवाद कार्यक्रम में वर्चुअल माध्यम से जुड़े और स्व सहायता समूह की दीदियों से संवाद किया।
Narendra Modi
Narendra Modiraftaar.in

भोपाल, (हि.स.)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बुधवार को देवास जिले के ग्राम जामगोद में विकसित भारत संकल्प यात्रा के लाभार्थियों से संवाद कार्यक्रम में वर्चुअल माध्यम से जुड़े और स्व सहायता समूह की दीदियों से संवाद किया। इस दौरान उन्होंने दीदियों से उनके काम, उनके जीवन में आए बदलाव और सहायता समूह से जुड़ने के बाद उनकी प्रगति की जानकारी ली।

पीएम ने देवास की रुबीना बी से बात की

इस दौरान देवास की रुबीना ने बताया कि उन्होंने एक मारुति वैन कार भी खरीद ली है। इस पर प्रधानमंत्री ने हंसते हुए कहा कि उनके पास तो साइकिल भी नहीं और स्वयं सहायता समूह की कार्यकर्ता ने अपने दम पर रोजगार के अवसर पैदा करते हुए कार ले ली। प्रधानमंत्री की बात सुनकर कार्यक्रम में मौजूद सैकड़ों दीदियां, अधिकारी और जनप्रतिनिधि भी ठहाके लगाने लगे।

मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव भी भोपाल स्थित मंत्रालय से वर्चुअल माध्यम से जुड़े

कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी ने सर्वाधिक आठ मिनट का समय देवास जिले की रुबीना से बात करते हुए बिताया। मात्र पांच हजार रुपये का कर्ज लेकर घर-घर कपड़े बेचने से अपने काम की शुरुआत करने वाली रुबीना ने अपनी पूरी यात्रा के बारे में प्रधानमंत्री को बताया। इस दौरान प्रधानमंत्री काफी प्रसन्न नजर आए। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव भी भोपाल स्थित मंत्रालय से वर्चुअल माध्यम से जुड़े।

मेरा दो करोड़ दीदीयों को लखपति बनाने का सपना है: प्रधानमंत्री मोदी

प्रधानमंत्री ने रुबीना बी से कहा कि मेरा दो करोड़ दीदीयों को लखपति बनाने का सपना है। इस पर रुबीना बी ने कहा कि मैं सभी दीदियों को लखपति बनते देखना चाहती हूं। उनका जवाब सुनकर प्रधानमंत्री ने मुस्कुराते हुए कहा कि आप नेताओं जैसे जवाब दे रही हैं। प्रधानमंत्री ने रुबीना बी को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि आपने खुद के जीवन को बदला और औरों के जीवन को भी बदल रही हैं। उन्होंने रुबीना से अपने बच्चों को पढ़ाने और आगे बढ़ाने के लिए भी कहा।

महा-अभियान को सफल बनाने के लिए पीएम ने देशवासियों का आभार व्यक्त किया

प्रधानमंत्री ने कहा कि विकसित भारत के संकल्प से जुड़ने और देशवासियों को जोड़ने का यह अभियान लगातार विस्तार ले रहा है। दूर-दूर के गांवों तक पहुंच रहा है। युवा हो, महिला हो या गांव के वरिष्ठ नागरिक हों, ये सब आज मोदी की गारंटी की गाड़ी का इंतजार करते हैं और इस गाड़ी के कार्यक्रम का इंतजाम भी करते हैं। इस महा-अभियान को सफल बनाने के लिए मैं आप सभी देशवासियों के आभार व्यक्त करता हूं।

भविष्य को बेहतर बनाने के लिए अधिक परिश्रम कर रहे हैं

उन्होंने कहा कि विकसित भारत संकल्प यात्रा को शुरू हुए अभी 50 दिन भी नहीं हुए, लेकिन यह यात्रा अबतक लाखों गांवों में पहुंच चुकी है। यह एक रिकार्ड है। बीते दिनों जब-जब मुझे इस यात्रा से जुड़ने का अवसर मिला है, तो मैंने एक बात नोट की है। जिस प्रकार देश के गरीब, किसान, युवा और महिलाएं आत्मविश्वास से अपनी बातें सामने रखते हैं, उन्हें सुनकर मैं खुद विश्वास से भर जाता हूं। आज देश के कोटि-कोटि लाभार्थी सरकार की योजनाओं को आगे बढ़ाने के माध्यम बन रहे हैं। वे सहायता पाने के बाद रुकते नहीं हैं, बल्कि इसमें से एक नई ताकत प्राप्त कर अपने भविष्य को बेहतर बनाने के लिए अधिक परिश्रम कर रहे हैं।

आयुष्मान भारत कार्ड के साथ-साथ एमबीएचए कार्ड भी तेजी से बनाए जा रहे हैं

प्रधानमंत्री ने कहा कि पहली बार देशव्यापी हेल्थ चेकअप हो रहा है। लगभग 1.25 करोड़ लोगों का हेल्थ चेकअप हो चुका है। 70 लाख लोगों की टीबी से जुड़ी जांच पूरी हो चुकी है। 15 लाख लोगों की सिकल सेल एनीमिया की जांच हुई है। आजकल आयुष्मान भारत कार्ड के साथ-साथ एमबीएचए कार्ड भी तेजी से बनाए जा रहे हैं। मोदी की गारंटी वाली गाड़ी जहां भी जा रही है, वहां लोगों का विश्वास बढ़ा रही है। यात्रा शुरू होने के बाद उज्ज्वला गैस कनेक्शन के लिए 4.5 लाख नए लाभार्थियों ने आवेदन किया है। यात्रा के दौरान मौके पर ही एक करोड़ आयुष्मान कार्ड दिए जा चुके हैं। ग्रामीण अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए, गांवों में महिलाओं को स्वरोजगार देने के लिए भारत सरकार बहुत बड़ा अभियान चला रही है।

वोकल फॉर लोकल का संदेश गांव-गांव, गली-गली तक पहुंचाना है

उन्होंने कहा कि बीते वर्षों में देश में लगभग 10 करोड़ बहन-बेटियां और दीदियां स्वयं सहायता समूह से जुड़ी हैं। विकसित भारत संकल्प यात्रा के दौरान हमें वोकल फॉर लोकल का संदेश गांव-गांव, गली-गली तक पहुंचाना है। भारत के युवाओं, किसानों का श्रम और भारत की मिट्टी की महक जिसमें हो, ऐसे सामान को खरीदें और उसका प्रचार-प्रसार करें।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.