प्रज्वल सेक्स स्कैंडल मामले में दोबारा जारी हुआ लुक आउट नोटिस

राज्य गृह मंत्री ने प्रज्वल रेवन्ना और उनके पिता एचडी रेवन्ना के खिलाफ दूसरा लुक आउट नोटिस जारी किया।
Prajwal Revanna
Prajwal Revannaraftaar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। JDS सांसद प्रज्वल रेवन्ना मामले में जांच के लिए 4 मई को SIT उनके घर पहुंची। इसके साथ ही राज्य के गृह मंत्री गंगाधरैया परमेश्वर ने प्रज्वल और उनके पिता एचडी रेवन्ना के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया है। आपको बता दें कि सेक्स टेप्स सामने आने के बाद ही हासन सांसद जर्मनी चले गए थे।

प्रज्वल रेवन्ना के खिलाफ क्या आरोप हैं?

प्रज्वल रेवन्ना के खिलाफ दो FIR दर्ज किए जा चुके हैं। एक FIR प्रज्वल के घर में बतौर घरेलू सहायिका काम कर चुकी महिला ने दर्ज कराया है। महिला ने आरोप लगाया था कि प्रज्वल ने उनका यौन शोषण किया, वीडियो बनाया है और वीडियो के आधार पर ब्लैकमेल किया। इसके साथ ही महिला ने ये आरोप भी लगाया था कि प्रज्वल ने उनकी बेटी के साथ वीडियो कॉल पर अभद्र बातें की। महिला ने ये आरोप भी लगाया था प्रज्वल के पिता एचडी रेवन्ना ने पत्नी की अनुपस्थिति में उनका रेप किया। वहीं एक और महिला ने प्रज्वल पर यौन शोषण का आरोप लगाया है। इसके साथ ही आरोप लगाया है कि प्रज्वल ने वीडियो बनाकर उन्हें ब्लैकमेल किया।

राज्य गृह मंत्री ने दोबारा जारी किया लुक आउट नोटिस

मीडिया से बता करते हुए शनिवार को गंगाधरैया परमेश्वर ने बताया कि एचडी रेवन्ना और प्रज्वल रेवन्ना के खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी किए जा चुके हैं। हमने एचडी रेवन्ना को लुक आउट नोटिस केवल इसलिए जारी किया था ताकि वह भी विदेश ना भाग सकें। लेकिन दूसरा नोटिस उन्हें कल ही जारी हुआ है। उनके पास नोटिस का जवाब देने के लिए काफी समय है।

इससे पहले विदेश मंत्रालय ने बताया था कि प्रज्वल के पास डिप्लोमैटिक पासपोर्ट है। उसी की मदद से बिना वीज़ा के प्रज्वल को जर्मनी में एंट्री मिल गई। इसके साथ ही विदेश मंत्रालय ने बताया था कि डिप्लोमैटिक पासपोर्ट को बिना कोर्ट ऑर्डर के रद्द नहीं किया जा सकता है।

राहुल गांधी की सीएम से गुजारिश, करें पीड़ितों की मदद

प्रज्वल रेवन्ना, पूर्व प्रधानमंत्री देवे गौड़ा के पोते हैं और कई महिलाओं के साथ बलात्कार करने के आरोपी भी है। जैसे ही उनके वीडियो सोशल मीडिया पर साझा हुए प्रज्वल चुनावों के बीच में ही देश छोड़कर फरार हो गए। वहीं, दूसरी तरफ राहुल गांधी ने भी राज्य के मुख्यमंत्री को पत्र लिख कर पीड़ितों की ज्यादा से ज्यादा मदद करने के लिए कहा है।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.