सुनीता केजरीवाल को नहीं मिली अरविंद केजरीवाल से मुलाकात की अनुमति, जानें तिहाड़ जेल का नियम

Tihad Jail: जानकारी के अनुसार तिहाड़ जेल प्रशासन ने सुनीता केजरीवाल को जेल के नियम के अनुसार 29 अप्रैल को मिलने की अनुमति नहीं दी है।
Sunita kejriwal
Sunita kejriwalraftaar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। आम आदमी पार्टी ने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल से उनकी पत्नी को तिहाड़ जेल में मुलाकात करने की अनुमति न देने को लेकर मोदी सरकार को घेरा है। दरअसल सुनीता केजरीवाल 29 अप्रैल 2024 को अरविंद केजरीवाल से तिहाड़ जेल में मिलना चाहती थी।

इसलिए कैंसल हुई सुनीता केजरीवाल की मुलाकात

जानकारी के अनुसार तिहाड़ जेल प्रशासन ने सुनीता केजरीवाल को जेल के नियम के अनुसार 29 अप्रैल को मिलने की अनुमति नहीं दी है। सूत्रों के अनुसार जेल प्रशासन का कहना है कि सुनीता केजरीवाल दिल्ली के सीएम से जेल में मिलती रही हैं। उनको कभी जेल में अरविंद केजरीवाल से मिलने से रोका नहीं गया है। आप नेता आतिशी ने एक सप्ताह पहले ही 29 अप्रैल को दिल्ली के सीएम से मिलने के लिए आवेदन कर रखा था। इसलिए उनकी अरविंद केजरीवाल से मुलाकात कराने के लिए सारी तैयारी कर ली गई है।

एक कैदी सप्ताह में दो बार आगंतुकों से मुलाकात कर सकता है

सूत्रों के अनुसार 30 अप्रैल को पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान की अरविंद केजरीवाल से तिहाड़ जेल में मुलाकात होनी है। तिहाड़ जेल प्रशासन का कहना है कि सुनीता केजरीवाल को अरविंद केजरीवाल से जानबूझकर मिलने से रोका नहीं जा रहा है। बल्कि जेल नियमावली अनुसार एक कैदी सप्ताह में दो बार आगंतुकों से मुलाकात कर सकता है। आतिशी के लिए सारी औपचारिकताएं पहले ही कर ली गई थी। ऐसे में ये कहना गलत होगा कि सुनीता केजरीवाल को जानबूझकर जेल जाने से रोका जा रहा है।

मोदी सरकार पर आरोप लगाया

वहीं आप का कहना है कि सुनीता केजरीवाल और आतिशी के नाम तिहाड़ जेल प्रशासन को दिल्ली के सीएम से मुलाकात करने के लिए 27 अप्रैल को ही दे दिए गए थे। आप का कहना है कि तिहाड़ जेल प्रशासन ने उन्हें अभी सूचना दी है कि सुनीता केजरीवाल को 29 अप्रैल 2024 को दिल्ली के सीएम से मिलने की अनुमति नहीं देंगे। इसको लेकर आप पार्टी ने एक्स पर एक पोस्ट करके मोदी सरकार पर आरोप लगाया है कि उनके कहने पर ही जेल प्रशासन ने सुनीता केजरीवाल को अरविंद केजरीवाल से मिलने की अनुमति नहीं दी है।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.