लोकसभा चुनाव 2024 को लेकर Delhi में Congress और AAP के बीच डील पक्की! जानें किसके पास कितनी सीट?

Loksabha Election 2024: बहुत ही जल्द लोकसभा चुनाव की अध‍िसूचना जारी हो जायेगी। जिसको लेकर सभी राजनीतिक दलों की तैयारी अपने अपने स्तर पर जोरो पर है।
Rahul Gandhi and Arvind Kejriwal
Rahul Gandhi and Arvind Kejriwalraftaar.in

नई दिल्ली, रफ़्तार डेस्क। बहुत ही जल्द लोकसभा चुनाव की अध‍िसूचना जारी हो जायेगी। जिसको लेकर सभी राजनीतिक दलों की तैयारी अपने अपने स्तर पर जोरो पर है। कोई भी पार्टी आगामी लोकसभा चुनाव में पीछे नहीं रहना चाहता है।

अब दोनों दलों के बीच दिल्ली के चुनाव को लेकर गठबंधन हो गया है

इसी के मध्य नजर दिल्ली में कोंग्रस और आप के बीच चुनावी डील पक्की हो गयी है। दोनों ही दल अपना गठबंधन बनाकर भाजपा को आगामी लोकसभा चुनाव में मात देना चाहते है। सूत्रों के अनुसार दोनों के गठबंधन में AAP को 4 और Congress को 3 सीटें मिली हैं। इससे पहले मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल कांग्रेस के साथ डील में देरी को लेकर नाराज होते हुए साफ दिखाई देते थे। अब दोनों दलों के बीच दिल्ली के चुनाव को लेकर गठबंधन हो गया है। इससे कहीं न कहीं भाजपा के लिए मुश्किलें बढ़ सकती है।

अब भाजपा के लिए दिल्ली में मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही है

सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस और आप के बीच दिल्ली में लोकसभा चुनाव को लेकर सीटों का बंटवारा तो हो ही गया है और कौनसी सीट किसके पाले में आयी है, यह भी साफ हो गया है। जहां आप के खाते में 4 सीटें आयी हैं तो वहीं कांग्रेस के खाते में 3 सीटें आयी हैं। कांग्रेस और आप गठबंधन के आपसी सहमति के अनुसार आम आदमी पार्टी को नई दिल्ली, नॉर्थ वेस्ट दिल्ली, वेस्ट दिल्ली और साउथ दिल्ली की सीटें मिली हैं और कांग्रेस को पूर्वी दिल्ली, उत्तर पूर्वी दिल्ली और चांदनी चौक की सीटें मिली हैं। अब जहां इनकी दिल्ली में सीटों को लेकर डील पक्की हो गयी है। वहीं अब भाजपा के लिए दिल्ली में मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही है।

कांग्रेस और आप का पंजाब को लेकर कोई बात नही बन पाई है

कांग्रेस और आप का पंजाब को लेकर कोई बात नही बन पाई है। दोनों ने पंजाब में अकेले अपने दम पर लोकसभा का चुनाव लड़ने का निर्णय लिया है। हालांकि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने यह साफ कर दिया है कि उनका कांग्रेस के साथ किसी तरह का कोई मनमुटाव नही है। आप को पंजाब में अपनी स्थिति मजबूत दिखती है। हो सकता है इसलिए उन्होंने पंजाब में गठबंधन न करने का निर्णय लिया हो।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.