Budhwar Mantra: भगवान गणेश को इन मंत्रों के जाप से करें प्रसन्न, घर में बनी रहेंगी खुशियां

भगवान गणेश को विघ्नहर्ता भी कहा जाता है। कहते हैं कि उनकी पूजा अर्चना अथवा कुछ मंत्रों के जाप से सारे कष्ट कट जाते हैं और घर में सुख शांति बनी रहती हैं।
Manra of Ganesh Bhagwan
Manra of Ganesh Bhagwanwww.raftaar.in

नई दिल्ली रफ्तार डेस्क 10 January 2024: हिंदू धर्म के अनुसार गणेश भगवान की पूजा अर्चना का बहुत बड़ा महत्व है। बुधवार हफ्ते का तीसरा दिन होता है और इस दिन भगवान गणेश की पूजा अर्चना करने से जीवन के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं। वहीं माना जाता है कि भगवान गणेश का दूसरा नाम विघ्नहर्ता है। भगवान सारे कष्ट हर लेते हैं ऐसे में अगर आप सच्चे मन से भगवान गणेश की पूजा करते हैं तो सारे बिगड़े काम बनने लगते हैं। वहीं भगवान की पूजा करने के लिए और उन्हें प्रसन्न वहीं वही भगवान को प्रसन्न करने के लिए कुछ मंत्र भी होते हैं जिनका प्रयोग करके आप भगवान को जल्दी पसंद कर सकते हैं।

भगवान गणेश की पूजा करने का महत्व

किसी भी देवी देवताओं की पूजा अर्चना, किसी उत्सव या किसी भी शादी विवाह के कार्यक्रम या मांगलिक कार्यों को करने से पहले भगवान श्री गणेश को याद करना शुभ माना जाता है।साथ ही इस दिन अपने घरों में भगवान श्री गणेश की पूजा करने, उनकी प्रतिमा स्थापित करने से घर में खुशहाली बनी रहती है और जीवन में शांति बने रहने का आशीर्वाद मिलता है।मान्यता है कि गणेश चतुर्थी के दिन व्रत रखने से या घर में भगवान गणपति की स्थापना करने से उस घर में मां लक्ष्मी का वास होता है और चतुर्दशी के दिन गणपति विसर्जन के साथ वे अपने भक्तों के सारे कष्ट- विघ्न संकट दूर कर देते है।

भगवान गणेश को प्रसन्न करने के लिए इन मंत्रो का करें जाप

  • 'ॐ वक्रतुण्डैक दंष्ट्राय क्लीं ह्रीं श्रीं गं गणपते वर वरद सर्वजनं मे वशमानय स्वाहा'

  • ॐ ग्लौम गौरी पुत्र, वक्रतुंड, गणपति गुरु गणेश।
    ग्लौम गणपति, ऋद्धि पति, सिद्धि पति. करो दूर क्लेश ।।

  • ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं ग्लौं गं गण्पत्ये वर वरदे नमः

    ॐ तत्पुरुषाय विद्महे वक्रतुण्डाय धीमहि तन्नो दन्तिः प्रचोदयात”

  • गणपूज्यो वक्रतुण्ड एकदंष्ट्री त्रियम्बक:।

    नीलग्रीवो लम्बोदरो विकटो विघ्रराजक :।।

    धूम्रवर्णों भालचन्द्रो दशमस्तु विनायक:।

  • गणपर्तिहस्तिमुखो द्वादशारे यजेद्गणम।।'

    ॐ श्रीं गं सौभाग्य गणपतये।

    वर्वर्द सर्वजन्म में वषमान्य नम:।।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.