Bihar News: बिहार सरकार मे मंत्री तेज प्रताप यादव ने बदला अटल पार्क का नाम, बीजेपी ने बोला नीतीश सरकार पर हमला

Bihar News: तेज प्रताप यादव ने बिहार की राजधानी पटना के कंकड़बाग में बनें अटल बिहारी वाजपेयी पार्क का नाम बदल कर कोकोनट पार्क कर दिया है। 2018 में पार्क का नाम कोकोनट से बदलकर अटल पार्क रखा गया था।
Bihar News: बिहार सरकार मे मंत्री तेज प्रताप यादव ने बदला अटल पार्क का नाम, बीजेपी ने बोला नीतीश सरकार पर हमला

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। बिहार सरकार में पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री और अपने अनोखे कारनामो को लेकर सुर्खियों में रहने वाले तेज प्रताप यादव एक बार फिर चर्चा के केन्द्र में है। इस बार वो पटना के अटल बिहारी वाजपेयी पार्क का नाम बदलने को लोकर खबरों में है। दरअसल, तेज प्रताप यादव ने बिहार की राजधानी पटना के कंकड़बाग में बनें अटल बिहारी वाजपेयी पार्क का नाम बदल कर कोकोनट पार्क कर दिया है। अब इस पार्क को कोकोनट पार्क के नाम से जाना जाएगा।  

क्या है पूरा मामला?

आपको बता दें राजधानी पटना के कंकड़बाग में बने कोकोनट पार्क का नाम साल 2018 में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन के बाद बीजेपी नेताओं ने अटल बिहारी वाजपेयी पार्क रख दिया था। और इस पार्क में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की प्रतिमा स्थापित कर दी थी। वन एवं पर्यावरण विभाग ने अब इस पार्क का जीर्णोद्धार किया है। इसे लोगों के लिए बेहतर बनाने के लिए यहां कई सुविधाएं शुरू की गई हैं। अब इसके उद्घाटन पर तेज प्रताप ने इसका नाम बदलकर कोकोनट पार्क करने का ऐलान कर दिया।

बीजेपी बिहार सरकार पर हमलावर

पार्क का नाम बदलने को लेकर अब बीजेपी लगातार बिहार सरकार पर हमलावर है। बीजेपी प्रवक्ता अरविंद कुमार सिंह ने कहा, 2018 में इस पार्क का नाम कोकोनट पार्क से बदलकर अटल बिहारी पार्क कर दिया गया था। लेकिन अब तेज प्रताप यादव ने इसका नाम एक बार फिर बदल दिया। उन्होंने कहा एक तरफ तो नीतीश कुमार अटल जी की समाधि पर माल्यार्पण करते हैं और दूसरी तरफ तेज प्रताप यादव ने पार्क का नाम बदल दिया। ये उनका दोहरा चरित्र दिखाता है। यह दोरंगी सरकार है। अरविंद कुमार सिंह ने कहा हम इसका विरोध करते है, और सरकार से मांग करते है कि इस पार्क का नाम ना बदला जाए।

हालांकि, अटल बिहारी वाजपेयी पार्क का नाम बदलकर भले ही कोकोनट पार्क कर दिया गया है। लेकिन पार्क में अटल बिहारी वाजपेयी का बोर्ड अभी भी पार्क के बाहर लगा हुआ है। और वाजपेयी जी की मूर्ति भी पार्क के अंदर लगी हुई है। इन दोनों से किसी ने कोई छेड़छाड़ नहीं की है। 

Related Stories

No stories found.