Google Doodle: कौन थीं हमीदा बानो? जिन्हें पहलवानी में कोई मां का लाल हरा नहीं सका, जो हराता उससे करतीं शादी

India First Female Wrestler: भारत में पुरुष पहलवान तो काफी समय से कुश्ती लड़ते आ रहे हैं। लेकिन महिलाओं के साथ ऐसा नहीं था। हमीदा बानो कुश्ती में नाम बनाने वाले पहले भारतीय महिला थीं।
हमीदा बानो।
हमीदा बानो।रफ्तार।

नई दिल्ली, रफ्तार। गूगल ने आज हमीदा बानो का डूडल बनाया है। हमीदा बानो भारत की पहली महिला पहलवान थीं। उन्होंने आज ही के दिन यानी 4 मई 1954 को कुश्तीमें केवल 1.34 मिनट में जीत दर्ज कर इंटरनेशनल लेवल पर पहचान बनाई थी। हमीदा ने प्रसिद्ध पहलवान बाबा पहलवान को हराया था। इस हार के बाद बाबा पहलवान ने कुश्ती से संन्यास ले लिया था। बहरहाल, गूगल ने अपने डूडल के डिस्क्रिप्शन में कहा-हमीदा बानो अपने समय की अग्रणी थीं। उनकी निडरता को पूरे भारत और दुनिया भर में याद किया जाता है।

बेंगलुरु की गेस्ट कलाकार दिव्या ने तैयार किया डूडल

गूगल के आज के डूडल को बेंगलुरु की गेस्ट कलाकार दिव्या नेगी ने बनाया है। डूडल के बैकग्राउंड में Google लिखा है, जो स्थानीय वनस्पतियों और जीवों से घिरा है। हमीदा बानो को 'अलीगढ़ की अमेजन' नाम से भी जाना जाता है। उनका जन्म 1900 में उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ के पहलवानों के परिवार में हुआ था। वह कुश्ती की कला का अभ्यास करते बड़ी हुईं और 1940 और 1950 में अपने कॅरियर में 300 से अधिक प्रतियोगिताएं जीती थीं।

शादी के लिए रखी थी शर्त

हमीदा ने 1940 और 1950 में चुनौती देते हुए कहा था कि जो उन्हें दंगल में हराएगा वे उससे शादी करेंगी। हमीदा के साथ किसी पुरुष के साथ पहली कुश्ती लाहौर के फिरोज खान के साथ 1937 में हुआ था। इस मैच से उन्हें काफी पहचान मिली। हमीदा ने फिरोज को चित किया था। इस मैच के बाद हमीदा ने एक सिख और कोलकाता के अन्य पहलवान खड़ग सिंह को हराया। दोनों ने हमीदा से शादी करने के लिए चुनौती दी थी।

हमीदा की डाइट

हमीदा बानो की लंबाई 5 फीट 3 इंच थी। वजन 107 किलो था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक वह रोजाना 6 लीटर दूध, पौने तीन किलो सूप, सवा दो लीटर जूस पीती थीं। साथ ही एक मुर्गा, एक किलो मटन, 450 ग्राम मक्खन, 6 अंडे, एक किलो बादाम, 2 बड़ी रोटियां और 2 प्लेट बिरयानी खाती थीं। वह 24 घंटों में 9 घंटे सोती थीं। 6 घंटे एक्सरसाइज और बाकी समय खाती रहती थीं।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.