imran-sold-gifts-received-from-foreign-governments-in-the-market-pml-n-spokesperson
imran-sold-gifts-received-from-foreign-governments-in-the-market-pml-n-spokesperson

इमरान ने बाजार में विदेशी सरकारों से मिले उपहार बेचे: पीएमएल-एन प्रवक्ता

नई दिल्ली, 15 अप्रैल (आईएएनएस)। पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) की प्रवक्ता मरियम औरंगजेब ने पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान पर विदेशी सरकारों से मिले लाखों रुपये के उपहार बेचने का आरोप लगाया है। एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट के अनुसार, सत्ताधारी पार्टी के प्रवक्ता ने इस्लामाबाद में मीडिया से बात करते हुए कहा, उन्होंने [इमरान खान] तोशाखाना (गिफ्ट डिपॉजिटरी) से दो करोड़ रुपए में कफलिंक, अंगूठियां और घड़ी खरीदी और इसे 18 करोड़ रुपए में बेच दिया। उन्होंने कहा, सोने की परत चढ़ा एक कलाशंकॉफ भी गायब है और इसे बनी गाला [पूर्व पीएम खान का निवास] से बरामद किया जाएगा। मरियम ने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा की आड़ में पीटीआई के नेतृत्व वाली पूर्व सरकार ने तोशाखाना के विवरण का खुलासा करने से इनकार कर दिया, क्योंकि उन्होंने बाजार में विदेशी गणमान्य व्यक्तियों से प्राप्त उपहारों को बेच दिया। एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट के अनुसार, पिछली सरकार ने कई मौकों पर तत्कालीन पीएम खान द्वारा प्राप्त विदेशी उपहारों का विवरण देने से इनकार कर दिया और पाकिस्तान सूचना आयोग (पीआईसी) को उपहारों का विवरण सार्वजनिक करने से रोकने के लिए इस्लामाबाद उच्च न्यायालय (आईएचसी) का दरवाजा खटखटाया है। सरकार ने कहा कि तोशाखाना से संबंधित किसी भी जानकारी का खुलासा अंतरराष्ट्रीय संबंधों को खतरे में डाल देगा। तोशाखाना कैबिनेट डिवीजन के प्रशासनिक नियंत्रण में एक विभाग है। 1974 में स्थापित, यह अन्य सरकारों, राज्यों और विदेशी गणमान्य व्यक्तियों के प्रमुखों द्वारा शासकों, सांसदों, नौकरशाहों और अधिकारियों को दिए गए कीमती उपहारों को संग्रहीत (कलेक्ट) करता है। तोशखाने में एक निश्चित मूल्य के उपहार रखना अनिवार्य है। हालांकि, अधिकारी इन उपहारों को रख सकते हैं, बशर्ते वे तोशाखाना मूल्यांकन समिति द्वारा निर्धारित मूल्य का एक निश्चित प्रतिशत का भुगतान करें। अन्य मुद्दों के बारे में बोलते हुए, प्रवक्ता ने कहा कि मुख्य सैन्य प्रवक्ता मेजर जनरल बाबर इफ्तिखार ने खान के झूठ का पर्दाफाश किया था कि अमेरिका ने उन्हें सत्ता से हटाने की साजिश रची थी। --आईएएनएस एचके/

Related Stories

No stories found.