Manipur Viral Video: मणिपुर घटना पर गुस्से में पूरा बॉलीवुड, अक्षय कुमार ने कहा, हिंसा का वीडियो देखकर हिल गया

Manipur Women Video: मणिपुर में महिलाओं को निर्वस्त्र कर घुमाने की घटना पर बॉलीवुड के कलाकारों ने भी कड़े शब्दों में निंदा की है। यहां देखे किसने क्या कहा?
Manipur Viral Video: मणिपुर घटना पर गुस्से में पूरा बॉलीवुड, अक्षय कुमार ने कहा, हिंसा का वीडियो देखकर हिल गया

नई दिल्ली, रफ्तार न्यूज डेस्क। मणिपुर में महिलाओं को निर्वस्त्र कर घुमाने की शर्मसार करने वाली घटना का वीडियो सामने आने के बाद से पूरे देश में आक्रोश का माहौल है। इस घटना पर आम जतना, अभिनेताओं से लेकर नेताओं तक की प्रतिक्रिया सामने रही है। हर कोई इस घटना की कड़े शब्दों में निंदा कर रहा है और दुर्भाग्यपूर्ण बता रहा है। एक तरफ आज जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस घटना पर अपनी पीड़ा व्यक्त की तो वहीं बॉलीवुड एक्ट्रेस ने भी इस घटना की कड़े शब्दों में निंदा की।

मै इस वीडियो को पूरा देख तक नहीं पाई- जया बच्चन

राज्यसभा सांसद जया बच्चन ने इस पर रिएक्शन देते हुए कहा कि वो इस वीडियो को पूरा देख तक नहीं पाई, ये बहुत दुखद वीडियो था। मैं शर्मिंदा हुं। किसी को परवाह नहीं। महिलाओं के साथ बहुत बुरा व्यवहार किया जा रहा है। यह बहुत निराशाजनक है। महिलाओं के साथ हर दिन कुछ न कुछ घटित हो रहा है। यह बहुत दुखद है।

महिलाओं के खिलाफ हिंसा का वीडियो देखकर मै हिल गया

बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार ने इस घटना पर ट्वीट कर लिखा मणिपुर में महिलाओं के खिलाफ हिंसा का वीडियो देखकर हिल गया, घृणा हुई। मुझे उम्मीद है कि दोषियों को इतनी कड़ी सजा मिलेगी जिससे कि कोई दोबारा ऐसी खौफनाक हरकत करने के बारे में न सोचे।

इस चीरहरण की क़ीमत संपूर्ण मनुष्य ज़ाति को चुकानी...

अभिनेता आशुतोष राणा ने अपने ट्वीट पर कहा इतिहास साक्षी है जब भी किसी आतातायी ने स्त्री का हरण किया है या चीरहरण किया है उसकी क़ीमत संपूर्ण मनुष्य ज़ाति को चुकानी पड़ी है। जैसे सत्य, तप, पवित्रता और दान ‘धर्म’ के चार चरण होते हैं वैसे ही ‘लोकतंत्र’ के भी विधायिका, कार्यपालिका, न्यायपालिका व पत्रकारिता रूपी चार चरण होते हैं। लोकतंत्र के इन चारों स्तंभों को एक दूसरे के साथ लय से लय मिलाकर चलना होगा तभी वे लोक को अमानुषिक कृत्यों के प्रलय के ताप से मुक्त कर पाएं।

पूरी मानवता पर एक कलंक है

उन्होने कहा अब समय आ गया है जब सभी राजनीतिक दलों और राजनेताओं को, मीडिया हाउसेस व मीडिया कर्मियों को अपने मत-मतान्तरों, एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोपों को भूलकर राष्ट्र कल्याण, लोक कल्याण के लिए सामूहिक रूप से उद्यम करना होगा। क्योंकि ये राष्ट्र सभी का है, सभी दल और दलपति देश और देशवासियों के रक्षण, पोषण, संवर्धन के लिए वचनबद्ध हैं। हमें स्मरण रखना चाहिए- स्त्री का शोषण, उसके ऊपर किया गया अत्याचार, उसका दमन, उसका अपमान.. आधी मानवता पर नहीं बल्कि पूरी मानवता पर एक कलंक की भाँति है।

मन में बहुत ज़्यादा क्रोध है- अनुपम खेर

बॉलीवुड अभिनेता अनुपम खेर ने भी इस घटना की निन्दा करते हुए कहा कि, मणिपुर में हुई दो महिलाओं के साथ राक्षसी वृती वाली घटना शर्मनाक है। मन में बहुत ज़्यादा क्रोध भी जागा है। मेरी राज्य सरकार/केंद्र सरकार से दरख्वास्त है कि जो इस घिनौनी हरकत के ज़िम्मेदार है उन्हें कड़ी से कड़ी सज़ा मिलनी चाहिए। ऐसी सज़ा जिससे भविष्य में कोई सोचने से भी काँप उठे।

Related Stories

No stories found.