DA Hike: सरकारी कर्मचारियों का बढ़ेगा महंगाई भत्ता, जानें कब और कितना खाते में आएगा पैसा

DA Hike Update: केंद्रीय कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में 4 फीसदी की बढ़ोतरी होगी। आमतौर पर केंद्र सरकार साल में दो बार जनवरी और जुलाई में महंगाई भत्ते में संशोधन करती है।
डीए में इजाफा।
डीए में इजाफा।रफ्तार।

नई दिल्ली, रफ्तार। केंद्रीय कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में 4 फीसदी की बढ़ोतरी होगी। आमतौर पर केंद्र सरकार साल में दो बार जनवरी और जुलाई में महंगाई भत्ते में संशोधन करती है। डीए में बढ़ोतरी की घोषणा मार्च में होती है। ऐसे में जल्द सरकार डीए में बढ़ोतरी का ऐलान कर सकती है।

महंगाई भत्ते में कितनी बढ़ोतरी होगी?

केंद्र सरकार के कर्मचारियों के लिए महंगाई भत्ते की गणना औद्योगिक श्रमिकों के लिए नवीनतम उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई-आईडब्ल्यू) के आधार पर होती है। श्रम मंत्रालय की एक शाखा श्रम ब्यूरो हर महीने सीपीआई-आईडब्ल्यू डेटा प्रकाशित करता है। पिछले 12 महीनों का औसत सीपीआई-आईडब्ल्यू 392.83 है। इसके मुताबिक डीए मूल वेतन का 50.26 फीसदी आ रहा, इसलिए केंद्र सरकार महंगाई भत्ते को 50% (दशमलव बिंदुओं को नजरअंदाज करते हुए) तक बढ़ा सकती है।

1 जनवरी 2024 से होगी प्रभावी

अभी केंद्र सरकार के कर्मचारियों और पेंशनभोगियों को क्रमशः 46% महंगाई भत्ता और महंगाई राहत (डीआर) मिलती है। केंद्र सरकार ने 18 अक्टूबर 2023 को डीए बढ़ोतरी की घोषणा की थी। यह 1 जुलाई 2023 से प्रभावी थी। अब सरकार के कर्मचारियों और पेंशनभोगियों के लिए डीए और डीआर में 4% की बढ़ोतरी की संभावना है। यह बढ़ोतरी 1 जनवरी 2024 से प्रभावी होगी।

4% DA बढ़ोतरी से सैलरी कितनी बढ़ेगी?

डीए में बढ़ोतरी से टेक-होम सैलरी बढ़ेगी। एक कर्मचारी का प्रति माह 53,500 रुपए मूल वेतन है। 46% पर महंगाई भत्ता 24,610 रुपए था। अब DA 50% होता है तो उनका DA बढ़कर 26,750 रुपए हो जाएगा। आगामी दौर में डीए 4% बढ़ता है तो उनका वेतन 26,750-24,610= 2,140 रुपए बढ़ जाएगा।

पेंशन कितना बढ़ जाएगा?

एक केंद्र सरकार के पेंशनभोगी को प्रति माह 41,100 रुपए पेंशन मिलती है। 46% DR पर पेंशनभोगी को 18,906 रुपए मिलते हैं। उनका डीआर 50% तक बढ़ता है तो उन्हें महंगाई राहत के रूप में 20,550 रुपए मिलेंगे। ऐसे में जल्द DA में 4% की बढ़ोतरी की जाती है तो उनकी पेंशन 1,644 रुपए प्रति माह बढ़ जाएगी।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.