Basant Panchami Mantra: बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की पूजा करते समय इन मंत्रों का करें जाप

बसंत पंचमी विद्यार्थियों के लिए काफी खास पर्व होता है। क्योंकि इस दिन मां सरस्वती की पूजा अर्चना की जाती है।
Mantra of
Mantra ofwww.raftaar.in

नई दिल्ली रफ्तार डेस्क 14 February, 2024: वसंत पंचमी के अवसर पर विद्या और ज्ञान की देवी माने जानी वाली मां सरस्वती के पूजा का विशेष लाभ मिलता है।और इस श्री पंचमीभी कहते है। मान्यताओं के अनुसार इसी दिन मां सरस्वती प्रकट हुई थी इसलिए इस दिन लोग उनकी पूजा अर्चना करते हैं।

बसंत पंचमी का महत्व

मां सरस्वती को विद्या की देवी कहा जाता है। मां सरस्वती की पूजा करने से विद्यार्थी को करियर में काफी लाभ मिलता है उनका भाग्य परिवर्तन भी हो जाता है। इसीलिए आज बसंत पंचमी के दिन लोग मां सरस्वती की पूजा अर्चना करके उन्हें प्रसन्न करने की कोशिश करते हैं। आज के दिन लोग पीले कपड़े पहनते हैऔर पीले फूल मां सरस्वती को अर्पित करते है। माता को चढ़ाने के लिए पकवान भी पीले ही रंग के बनाते हैं।

बसंत पंचमी क्यों है इतना खास

बसंत पंचमी के दिन से ही चारों तरफ हरियाली छा जाती है। यह नई फसलों के आने का और चारों तरफ हरियाली लाने का त्योहार माना जाता है। इस दिन से ही होली की शुरुआत हो जाती है। धार्मिक दृष्टि से देखा जाए तो आज का दिन काफी शुभ माना जाता है। आज के दिन गृह प्रवेश विवाह आदि करना काफी भाग्यशाली माना गया है।

मां सरस्वती के इन मंत्रों का करे जाप

  • ॐ ह्रीं ऐं ह्रीं सरस्वत्यै नमः।

  • या देवी सर्वभूतेषु विद्या रूपेण संस्थिता, नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

  • सरस्वत्यै नमो नित्यं भद्रकाल्यै नमो नम:।।

  • ऎं ह्रीं श्रीं वाग्वादिनी सरस्वती देवी मम जिव्हायां। सर्व विद्यां देही दापय-दापय स्वाहा।।

  • शारदायै नमस्तुभ्यं मम ह्रदय प्रवेशिनी, परीक्षायां सम उत्तीर्णं, सर्व विषय नाम यथा।

  • सरस्वती महाभागे विद्ये कमललोचने । विद्यारूपे विशालाक्षि विद्यां देहि नमोस्तुते ॥

  • ॐ वागदैव्यै च विद्महे कामराजाय धीमहि। तन्नो देवी प्रचोदयात्‌।

  • नमस्ते शारदे देवी, काश्मी‍रपुर वासिनीं, त्वामहं प्रार्थये नित्यं, विद्या दानं च देहि में,

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.