Shaniwar Mantra: शनिवार के दिन करें इन मंत्रों का जाप, जाग जाएगी आपकी सोई हुई किस्मत

शनिवार का दिन भगवान शनि देव को समर्पित है कहते हैं कि जिसके ऊपर शनि की दृष्टि अथवा साडेसाती चलने लगती है उसकी किस्मत उसका साथ देना छोड़ देती है।
Mantra of Shanidev
Mantra of Shanidevwww.raftaar.in

नई दिल्ली रफ्तार डेस्क 27January 2024: हिंदू धर्म के अनुसार शनि देव की काफी मान्यताएं हैं। शनि देव की दृष्टि जिस इंसान पर पड़ती है उसकी काया पलट जाती है। हर व्यक्ति चाहता है कि वह शनि देव की चपेट में कभी ना आए।शनिदेव को कर्मों का देव भी कहा गया है, क्योंकि वह मनुष्य को उसके कर्मों के अनुसार फल देते हैं। वही ऐसे कई मंत्र भी बताए गए हैं जिन्हें आज के दिन करके आप शनि भगवान को प्रसन्न कर सकते हैं।

क्या होता है साढ़ेसाती

शास्त्रों के अनुसार ऐसा माना जाता है जब शनिदेव चन्द्र राशि पर गोचर से अपना भ्रमण करते हैं तो साढ़ेसाती मानी जाती है। जिसके कारण व्यक्ति की राशि में साढ़ेसाती लगता है। और यह प्रभाव उनके राशि में प्रवेश से तीस माह पहले से तीस माह बाद तक रहता होता है। साढ़ेसाती के दौरान शनि व्यक्ति के पिछले किये गये कर्मों का हिसाब लेते है। वहीं जैसे घर में भूल हो जाने पर बड़े जन आपको दंड देते हैं। साढ़ेसाती शुरू होने पर शनि देव भी आपको आपके कर्मों के हिसाब से दंड देते हैं।

शनि देव को प्रसन्न करने के लिए करें या उपाय

शनि देव को प्रसन्न करने के लिए इस दिन शनि यंत्र की पूजा की जाए तो इससे शनि देव की कृपा बरसती है। और शनि देव के बुरे प्रभाव को शांत करने के लिए शनिवार के दिन शनि यंत्र की पूजा की जाती है। इस दिन काली गाय को उड़द की दाल या तिल खिलाएं। ऐसा करने से आपके जीवन के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं।

शनिवार के दिन इन मंत्रो का करें जाप

ॐ शं शनिश्चराय नम:

ऊँ त्रयम्बकं यजामहे सुगंधिम पुष्टिवर्धनम ।

उर्वारुक मिव बन्धनान मृत्योर्मुक्षीय मा मृतात ।

ॐ शन्नोदेवीरभिष्टय आपो भवन्तु पीतये।शंयोरभिश्रवन्तु नः। ऊँ शं शनैश्चराय नमः।

ऊँ नीलांजनसमाभासं रविपुत्रं यमाग्रजम्‌।छायामार्तण्डसम्भूतं तं नमामि शनैश्चरम्‌।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.