क्या हाथ में बंधा कलावा भी बना सकता है आपको कंगाल? जानिए इससे जुड़े नियम और उपाय

हिंदू धर्म में हर पूजा पाठ के बाद हाथ में कलावा बांधा जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं। वास्तु शास्त्र के अनुसार इसका सही से पालन न करने से आपकी तरक्की में बाधा उत्पन्न होती है।
Vastu Tips of Kalawa
Vastu Tips of Kalawawww.raftaar.in

नई दिल्ली रफ्तार डेस्क।25 April 2024। घर-मंदिर में होने वाली पूजा में कलावा बांधने की परंपरा प्राचीन काल से चली आ रही है। ऐसी मानता हैं कि हाथ में कलावा होने से भगवान जातक की रक्षा करते है और उन पर अपनी कृपा बनाए रखते है। लेकिन वास्तु के अनुसार अगर कलवा का सही उपयोग न किया जाए। और इससे जुड़ी कुछ बातों का ध्यान ना रखा जाए तो यह आप पर गलत प्रभाव भी डालता है।

लावा पहनते समय इन बातों का रखें ध्यान

कलावा का करें विसर्जन

अधिकतर लोग कलावा उतार के कहीं भी फेंक देते हैं इसका बहुत गलत प्रभाव पड़ता है। कलावा उतारने के बाद उसका सही तरीके से विसर्जन ज़रूर करें। आप उसे जल में प्रवाहित कर सकते हैं।

कलावा बांधने का तरीका

कलावे को हमेशा 3 या 5 राउंड घुमाकर ही हाथ में बांधना चाहिए। इसके साथ ही हाथ में कलावा बांधते समय ‘येन बद्धो बलि राजा, दानवेन्द्रो महाबलः, तेन त्वां मनु बध्नामि, रक्षे माचल माचल’ मंत्र का उच्चारण करना बहुत शुभ माना जाता है। बिना मंत्र के अलावा बढ़ने का कोई फल प्राप्त नहीं होता।

किस हाथ में बंधाए कलावा

वास्तु के अनुसार के मुताबिक अगर पुरुष हाथ में कलावा बंधवा रहे हैं तो उन्हें अपने दाहिने हाथ में कलावा बंधवाना चाहिए। जबकि विवाहित महिलाओं को बाएं हाथ में कलावा बंधवाना चाहिए। कुंवारी कन्याओं को अपने दाहिने हाथ कलावा बंधवाना चाहिए।

इस राशि के लोग ना बांधे कलावा

वास्तु शास्त्र के अनुसार, मकर और कुंभ राशि के लोगों को कलावा नहीं बांधना चाहिए। इनके लिए कलावा शुभ नहीं है। दोनों राशि के लोगों को कलावे के स्थान पर हमेशा काले रंग का धागा धारण करना चाहिए।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.