Vastu Tips of Home
Vastu Tips of Homewww.raftaar.in

Vastu Tips: वास्तु के इन उपायों से बदले अपना भाग्य, खुलेंगे तरक्की के रास्ते मिलेंगी अपार खुशियां

घर में सुख समृद्धि और खुशियां लाने के लिए वास्तु के कुछ उपाय को कारगर माना गया है। तो देर किस बात की इन उपायों से बदले आप भी अपना भाग्य

नई दिल्ली रफ्तार डेस्क।24 April 2024। जीवन के हर मोड में वास्तु का बहुत महत्व होता है। जिसकी अनुसार किए गए कार्यों से घर में सुख शांति आती है। घर से नकारात्मकता को दूर करने के लिए अथवा जीवन में सफलता पाने के लिए वास्तु के कुछ नियमों का पालन करना बहुत जरूरी होता है।

वास्तु शास्त्र की इन बातों का रखें ध्यान

नकारात्मकता को करें दूर

अगर आपका कोई काम नहीं बन रहा है। और घर में भी नकारात्मकता जैसा प्रभाव लग रहा है तब आप रोजाना सुबह शाम घर में गंगाजल का छिड़काव करें। ऐसा करने से घर से घर से नकारात्मकता के घर से घर में देवी देवताओं का आगमन होता है और उनकी कृपा पर बनी रहती है।

सुधारे घर की आर्थिक स्थिति

घर की आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए अपने घर की तिजोरी को पश्चिम या दक्षिण दिशा में रखें इस दिशा में रखने से घर में धन की वृद्धि होती है।

इन दिशा में ना रखें जूते चप्पल

आज के समय में लोग दिशा का ध्यान नहीं रखते और कोई भी सामान गलत जगह पर रख देते हैं। जिसके कारण घर में नकारात्मकता आती है। उत्तर पूर्व दिशा में कभी भी जूते चप्पल के रेट नहीं रखना चाहिए।

इस प्रकार उतरे घर की नजर

वास्तु के अनुसार घर में सरसों के तेल के दीये में लौंग डालकर लगाना शुभ है। और ऐसी मान्यता है कि अगर घर को किसी की नजर लगी हो तब भी यह उपाय करने से घर में सुख शांति बनी रहती है।

कपूर से करें घर को शुद्ध

घर से नकारात्मकता को दूर रखने के लिए आपको सुबह शाम कपूर कर दिया पूरे घर में दिखना चाहिए। ऐसा करने से घर का माहौल भी शुद्ध रहता है।

घर में ना रखें एसी वस्तुएं

घर में टूटी-फूटी, कबाड़, अनावश्यक वस्तुओं को नहीं रखें। ऐसी वस्तुएं घर में अशांति और दरिद्रता फैलती है जिसके कारण आपका बना बनाया कार्य भी असफल हो जाता है।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.