पार्टनर के साथ इमोशनल इंटिमेसी होगी बेहतर, इन बातों का रखें खास ध्यान

पार्टनर के साथ रिश्तों को बेहतर करना है तो कुछ चीजों की मदद से आप रिश्ते में इमोशनल इंटिमेसी काफी बढ़ जाती है।
Relationship Tips
Relationship Tips Pixabay

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क|अकसर जब भी पति व पत्नी को लेकर रिश्ते की बात होती है तो फिजिकल इंटिमेसी का अकसर जिक्र होता है। वहीं इस दौरान इमोशनल इंटिमेसी को लेकर कम ही चर्चा होती है। फिजिकल इंटिमेसी भी बहुत जरूरी होती है । इसके साथ ही इमोशनल इंटिमेसी आपके रिश्ते को मजबूत बनाने में अहम भूमिका निभाती है।

जब वैवाहिक जीवन को लेकर बात करें तो फिजिकल इंटिमेसी कम होती है। वहीं इमोशनल इंटिमेसी की मदद से प्यार को मजबूत करना काफी आसान होता है। कई कपल ऐसे रहते हैं ऐसे रहते हैं जिनकी उम्र 40 से 50 के बीच रहती है। लेकिन उनकी बाॅन्डिंग शानदार होती है। वे भावनात्मक तौर पर आसानी से जुड़ती हैं।

जिन कपल में इमोशनल इंटिमेसी बेहतर होती है। वे एक दूसरे के साथ मजबूती से जुड़े रहते हैं। वहीं, एक की बात को बिना कहे ही समझा जाते हैं। अगर, आपको अपने रिश्ते को सफल बनाना है तो इमोशनल इंटिमेसी का खास ध्यान रखना होगा। आपको कुछ उपाय से मदद मिलेगी। आइए विस्तार से जान लेते हैं।

पार्टनर को समझें

आजकल कपल में इमोशनल बाॅन्डिंग नहीं रहती है तो रिश्ता आसानी से समाप्त हो जाता है। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि हम केवल अपनी बात करना चाहते हैं। हम पार्टनर की बातों को समझने के लिए तैयार नहीं होते हैं। हम पार्टनर को समझने में रुचि दिखानी चाहिए। जब आप सामने वालों को नहीं सुनते हैं तो सामने वाला भी आपकी बात को सुनना पसंद नहीं करता है। पार्टनर की बात को आपको हमेशा ध्यान से सुनना चाहिए।

पार्टनर को सुनने का करें प्रयास

अगर आप चाहती हैं तो आपको हमेशा पार्टनर की बात सुनते समय निष्पक्ष रहने का प्रयास करना चाहिए। कई बात देखा जाता है कि जब पार्टनर अपनी बात को समझाने का प्रयास करता है तो दूसरा पार्टनर उसका अलग मतलब निकालता है। या फिर उनको अलग तरह से जज करता है। वहीं झगड़ा होने पर उन बातों को दोहराने लगते हैं जिससे आपका दिल टूट जाता है। इसलिए पार्टनर की बातों को सुनने का प्रयास करें।

इमोशनल इंटिमेसी होती है जरूरी

इमोशनल इंटिमेसी से दो लोग अलग तरह से जुड़ जाता हैं। वहीं ये जुड़ाव काफई बेहतर होता है। हर व्यक्ति जीवन के दौरान अपने लक्ष्यों को लेकर कई तरह से जुड़ा रहता है। इसलिए आप एक दूसरे के प्रति सपोर्टिव रहने का प्रयास कर सकते हैं। अपने पार्टनर को ऐससास दिलाते रहें कि आप लक्ष्यों को पूरा करने में आप हमेशा उनके साथ रहेंगे। जब दोनों लोग एक दूसरे को समझते हैं तो इमोशनल इंटिमेसी में मजबूती हो जाती है।

Related Stories

No stories found.