Eco-friendly Cycle
Eco-friendly CycleRaftaar.in

बांग्लादेश में बनी Eco-Friendly लकड़ी की साइकिलों की यूरोप में बढ़ी मांग, पर्यावरण का रखा जा रहा खास ख्यास

Dhaka News: बांग्लादेश ने ईको-फ्रेंडली प्रोडक्टस की एक रेंज निकाल दी है। जिसमें पर्यावरण अनुकूल होटल बेड, सन बेड, पालतू जानवरों के खिलौने और फर्नीचर वस्तुओं की विस्तृत शृंखला शामिल है।

ढाका, हि.स.। बांग्लादेश में निर्मित पर्यावरण अनुकूल 'लकड़ी की साइकिलें (बेबी बैलेंस बाइक)' यूरोप के बाजार में धूम मचा रही हैं। इनका निर्माण बागेरहाट के बांग्लादेश स्मॉल एंड कॉटेज इंडस्ट्रीज कारपोरेशन (बीएससीआईसी) औद्योगिक शहर में कई कंपनियां कर रही हैं। पहले चरण में ग्रीस को 20 हजार लकड़ी की साइकिलें निर्यात की जा चुकी हैं। इनका निर्माण नेचुरल फाइबर कंपनी ने किया है।

पर्यावरण अनुकूल लकड़ी की साइकिलें यूरोप में मचा रहा धूम

बांग्लादेश के प्रमुख समाचार पत्र ढाका ट्रिब्यून की रिपोर्ट के अनुसार, नेचुरल फाइबर कंपनी के उत्पादों में पर्यावरण अनुकूल होटल बेड, सन बेड, पालतू जानवरों के खिलौने और फर्नीचर वस्तुओं की विस्तृत शृंखला शामिल है। इस कंपनी ने 2005 में इस औद्योगिक शहर में गद्दे, कॉयर फेल्ट, कोको पीट, डिस्पोजेबल चप्पल सहित विभिन्न कॉयर उत्पाद नारियल के खोल से बनाने शुरू किए थे। 2023 में इस कंपनी ने पर्यावरण अनुकूल लकड़ी की साइकिलों पर अपना ध्यान केंद्रित किया।

ग्रीस ने दिया था 3 लाख बेबी बैलेंस बाइक का ऑर्डर

लकड़ी की साइकिलें तैयार करने वाले उद्यमी मुस्तफिज अहमद ने कहा कि उन्हें 2023 में ग्रीस से 3 लाख बेबी बैलेंस बाइक का ऑर्डर मिला। वह दिसंबर में इसकी पहली खेप निर्यात करने में कामयाब रहे। उन्होंने कहा कि इसके अलावा उनके कारखाने में निर्मित बिल्लियों और कुत्तों के लिए लकड़ी के खिलौने भी पिछले साल बेल्जियम को निर्यात किए गए थे। लकड़ी की साइकिलों की दूसरी खेप जल्द ही निर्यात की जाएगी।

ईको-फ्रेंडली एडल्ट साइकिल के भी आए ऑर्डर

अब बेबी बैलेंस बाइक के साथ एडल्ट साइकिल के भी ऑर्डर आए हैं। बांग्लादेश स्मॉल एंड कॉटेज इंडस्ट्रीज कारपोरेशन बागेरहाट के उप निदेशक जहीरुल इस्लाम ने कहा है कि इन ईको-फ्रेंडली लकड़ी के उत्पादों को विदेशों में निर्यात करके विदेशी मुद्रा अर्जित की जा रही है। ईको-फ्रेंडली होने से ये लोगों की सेहत के लिए भी लाभदायक सिद्ध हो रहा है।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.