Indo-Bangladesh: मालदीव के बाद, बांग्लादेश में विपक्ष ने लगाए भारत विरोधी 'इंडिया आउट कैम्पेन' के नारे

New Delhi: बांग्लादेश में PM शेख हसीना की सरकार के खिलाफ विपक्ष ने भारत विरोधी 'इंडिया आउट कैम्पेंन' का नारा शुरु कर दिया है। बांग्लादेश के विदेश मंत्रालय ने इस बात की निंदा की।
Indo-Bangladesh Releation
Indo-Bangladesh ReleationRaftaar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। बांग्लादेश में इस साल प्रधानमंत्री आम चुनाव होने वाले हैं जिसको लेकर बांग्लादेश में सियासी माहौल काफी गरम है। इस दौरान बांग्लादेश की विपक्षी पार्टी बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) के नेतृत्व में बांग्लादेश में 'इंडिया आउट' आंदोलन शुरु कर दिया है। बांग्लादेश की विपक्षी पार्टी हूबहू मालदीव के नक्शें कदमों पर चल रहा है। मालदीव के इस कदम से भारत और मालदीव के रिश्तों में तनातनी अभी भी जारी है। बांग्लादेश के विदेश मंत्रालय ने विपक्ष के बयान की निंदा की है और कहा कि भारत पर हमें गर्व है, भारत हमेशा हमारे बुरे समय में एक अच्छे पड़ोसी की भांति खड़ा रहा। बांग्लादेश में सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी के रूप में बीएनपी का इस तरह का आंदोलन शुरू करने का निर्णय, भारत विरोधी भावनाओं में इसकी ऐतिहासिक जड़ों के साथ, संभावित परिणामों के बारे में गंभीर चिंताएं पैदा करता है।

'इंडिया आउट' आंदोलन

मालदीव के हालिया 'इंडिया आउट' आंदोलन जो चीन के साथ घनिष्ठ संबंधों की इच्छा और देश की स्वतंत्रता पर कथित उल्लंघन से प्रेरित है। मालदीव के राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज्जू की भारत विरोधी भावना और मालदीव सरकार के मंत्रियों द्वारा भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में की गई अपमानजनक टिप्पणियों ने राजनयिक संबंधों को तनावपूर्ण बना दिया है। मालदीव और बांग्लादेश में विपक्षी पार्टी बीएनपी के विचार एक ही है इसमें कोई दो राय नहीं है।

भारत विरोधी गतिविधियां तेजी से बढ़ रहीं

बीएनपी कट्टरवादी और अति-इस्लामवादी विचारधारा से प्रेरित है। बीएनपी की पूर्व प्रधानमंत्री खालीदा जिया बांग्लादेश की सत्ता में अहम भीमिका निभा चुकी हैं लेकिन भ्रष्टाचार के आरोप लगने पर इन्हें जेल जाना पड़ा। खालीदा इन दिनों खराब सेहत के चलते अस्पताल में भर्ती हैं। लेकिन इन्हीं के पार्टी के नेताओं ने भारत विरोधी नारे देना शुरु कर दिया है। बीएनपी पाकिस्तान और चीन से ज्यादा घनिष्ठ मित्रता रखता है। इन्हीं विचारों के कारण बीएनपी ने आगामी चुनावों में 'इंडिया आउट' आंदोलन शुरु कर दिया है। बीएनपी के कार्यकर्ताओं द्वारा "भारत बांग्लादेश का मित्र नहीं है" और "भारत बांग्लादेश को नष्ट कर रहा है" जैसे नारे सामने आए हैं, सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर बीएनपी कार्यकर्ता ने न केवल बांग्लादेश के भीतर भारत विरोधी भावना को भड़काने का प्रयास कर रहे हैं, बल्कि सोशल मीडिया प्लेटफार्मों के माध्यम से नेपाल तक भी अपनी पहुंच बढ़ा रहे हैं।

'इंडिया आउट' आंदोलन का मुख्य संचालक

रिपोर्टों से पता चलता है कि 'इंडिया आउट' आंदोलन का संचालक तारिक रहमान, दोषी आतंकवादी और बीएनपी का कार्यवाहक अध्यक्ष है, जो लंदन से संचालित होता है। रहमान ने कथित तौर पर पार्टी सदस्यों को मालदीव में देखे गए भारत विरोधी आंदोलन को दोहराने का निर्देश दिया, जिससे बांग्लादेश में हिंदू विरोधी और भारत विरोधी भावनाओं को और बढ़ावा मिला। बीएनपी की साइबर शाखा ने सोशल मीडिया के माध्यम से नफरत फैलाना शुरू कर दिया है, ट्विटर जैसे प्लेटफार्मों पर विशिष्ट उदाहरणों की पहचान की गई है।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.