people-are-getting-frustrated-with-rising-inflation-with-petroleum-products-praspa
people-are-getting-frustrated-with-rising-inflation-with-petroleum-products-praspa

पेट्रोलियम पदार्थों के साथ बढ़ रही महंगाई से निराश हो रही जनता : प्रसपा

— केन्द्र और प्रदेश सरकार को जनता के हितों को देख उठाना चाहिए कदम कानपुर, 21 मार्च (हि.स.)। कोरोना काल में जहां लोग रोजगार के लिए भटक रहे हैं तो वहीं जिनके पास रोजगार है भी तो वह लोग पेट्रोलिय पदार्थों के साथ बढ़ती महंगाई से परेशान हैं। आम जनमानस के बीच हालात ऐसे हो गये हैं कि परिवार चलाना मुश्किल हो रहा है और जनता में जबरदस्त निराशा का भाव है। इसको लेकर केन्द्र और प्रदेश सरकार को ठोस कदम उठाना चाहिये ताकि आम जनमानस अपने परिवार का सही से भरण पोषण कर सके। यह बातें रविवार को प्रसपा के जिलाध्यक्ष विनोद कुमार प्रजापति ने कही। प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (प्रसपा) की कानपुर नगर ग्रामीण का एक प्रतिनिधि मंडल रविवार को राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव के आवाहन पर अकबरपुर सांसद देवेंद्र सिंह भोले के घर पहुंचा। सांसद की अनपुस्थित में प्रतिनिधि मंडल ने उनके पुत्र को प्रधानमंत्री भारत सरकार को संबोधित 12 सूत्रीय मांग पत्र सौंपा। प्रसपा नेताओं ने कहा कि दिन-प्रतिदिन डीजल पेट्रोल एलपीजी गैस के बढ़ते दाम तथा अन्नदाताओं की ज्वलंत मूल समस्याओं एवं स्थानीय स्तर पर व्याप्त भ्रष्टाचार जन समस्याओं को जनहित में निस्तारण करने के लिए मांग पत्र सौंपा गया है। लाकडाउन से उपजी परिस्थितियों में समाज का कमोवेश हर तबका निराशा का सामना कर रहा है। देश का अन्नदाता पिछले 100 से अधिक दिनों से प्रदेश की सीमाओं पर सत्याग्रह पर बैठा है उसकी सुधि लेने वाला कोई नहीं है। स्थानीय प्रशासन और थानों में भ्रष्टाचार का बोलबाला है। गरीब व मध्यम वर्ग के लिए सस्ते सुलभ व प्रभावी चिकित्सा व्यवस्था का अभाव है। दवाइयों के दाम बढ़ रहे हैं पिछले एक साल की अवधि में अंतरराष्ट्रीय बाजार में घटते तेल के दाम के बावजूद भारतीय बाजार में तेल की कीमतें न सिर्फ यथावत रही है बल्कि लगातार पेट्रोल डीजल व सीएनजी की कीमतों में भारी बढ़ोतरी हो रही हैं। ऐसे कठिन दौर में यह बढ़ोतरी अमानवीय व अलोकतांत्रिक है। डीजल बढ़ोतरी का सीधा असर आम जनमानस और अन्नदाताओं पर पड़ता है। मांग पत्र का निस्तारण यदि शीघ्र नहीं किया गया तो प्रगतिशील समाजवादी पार्टी कानपुर नगर ग्रामीण आंदोलन करने के लिए बाध्य होगी। इस दौरान गोविंद त्रिपाठी, स्वामी, महेंद्र सिंह यादव, राजपाल यादव, राम प्रकाश मिश्रा, डा. शालिनी यादव, राम बहादुर पासवान, आकाश प्रजापति आदि लोग मौजूद रहें। हिन्दुस्थान समाचार/अजय/मोहित

Related Stories

No stories found.