Covid Case: गुजरात के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा- कोविड के टीके से हार्ट अटैक की बातें आधारहीन

Gujarat News: देश के 250 करोड़ से अधिक लोगों को कोविड का टीकाकरण किया गया है। कोविड से लोगों का फेफड़ा कमजोर हुआ है, यह कारण हो सकता है लेकिन वैक्सीन से मौत होने का कोई भी मामला सामने नहीं आया है।
Hrishikesh Patel
Hrishikesh Patelraftaar.in

गांधीनगर, (हि.स.)। गुजरात के स्वास्थ्य मंत्री ऋषिकेश पटेल ने कोविड टीके के दुष्प्रभाव से युवकों में हार्ट अटैक की बातों को आधारहीन बताया है। उन्होंने दावा किया कि कोविड टीकाकरण से किसी तरह का दुष्प्रभाव नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि देश के 250 करोड़ से अधिक लोगों को कोविड का टीकाकरण किया गया है। कोविड से लोगों का फेफड़ा कमजोर हुआ है, यह कारण हो सकता है लेकिन वैक्सीन से मौत होने का कोई भी मामला सामने नहीं आया है।

कांग्रेस विधायक इमरान खेड़ावाला के सवाल के जवाब में स्वास्थ्य मंत्री बोल रहे थे

गुजरात विधानसभा में बजट सत्र के दौरान सोमवार को कांग्रेस विधायक इमरान खेड़ावाला के सवाल के जवाब में स्वास्थ्य मंत्री बोल रहे थे। स्वास्थ्य मंत्री ने अहमदाबाद शहर और जिले में कोविड जेएन1 वैरिएंट अंतर्गत सवाल का भी जवाब दिया। मंत्री ने बताया कि अहमदाबाद शहर और जिले में कोविड जे.एन.1 वैरिएंट संबंधी मामलों की 31 जनवरी, 2024 की स्थिति के अनुसार अहमदाबाद शहर में 80 मरीजों का इलाज किया गया। सरकार ने सावधानी के तौर पर मरीजों के घर और जरूरत पड़ने पर हॉस्पिटल में इलाज कर रही है।

मरीजों के सम्पर्क में आए सभी संदिग्ध मरीजों पर भी निगरानी रखी जा रही है

इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग की टीम घर-घर जाकर कोविड के नए वैरिएंट के संबंध में जानकारी एकत्रित कर रही है। मरीजों के सम्पर्क में आए सभी संदिग्ध मरीजों पर भी निगरानी रखी जा रही है। सरकार टेस्ट-ट्रेक-ट्रीटमेंट-वैक्सीनेशन-कोविड एप्रोप्रिएट विहेवियर की स्ट्रेटजी अपना रही है।

राज्य में कोविड-19 की टेस्टिंग के लिए 207 लेबोरेट्री को मंजूरी दी गई है

रोक पर नियंत्रण पाने के लिए मरीजों का पता लगाकर अद्यतन इलाज किया जा रहा है। राज्य में कोविड-19 की टेस्टिंग के लिए 207 लेबोरेट्री को मंजूरी दी गई है। इसमें 111 सरकारी और 96 निजी लेबोरेट्री को मंजूरी दी गई है। सभी स्वास्थ्य केन्द्रों में दवाओं और साधन सामग्री का पर्याप्त स्टॉक उपलब्ध करवाने के साथ जनता को जागरूक भी किया जा रहा है।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.