Delhi News: संसद की सुरक्षा में सेंध लगाने वाले चार आरोपितों की पुलिस हिरासत 15 दिन के लिए बढ़ी

Delhi News: दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने संसद में सुरक्षा चूक के चार आरोपितों की पुलिस हिरासत 15 दिनों के लिए बढ़ा दी है। चारों आरोपितों की आज पुलिस हिरासत खत्म हो रही थी।
Patiala House Court
Patiala House Courtraftaar.in

नई दिल्ली, (हि.स.)। दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने संसद में सुरक्षा चूक के चार आरोपितों की पुलिस हिरासत 15 दिनों के लिए बढ़ा दी है। चारों आरोपितों की आज पुलिस हिरासत खत्म हो रही थी, जिसके बाद उन्हें कोर्ट में पेश किया गया था। एडिशनल सेशंस जज हरदीप कौर ने ये आदेश दिया।

चारो आरोपियों की पुलिस हिरासत 15 दिनों के लिए बढ़ी

इससे पहले कोर्ट ने 14 दिसंबर को चारों को गुरुवार तक की पुलिस हिरासत में भेजा था। गुरुवार को चारों आरोपितों की पेशी के दौरान दिल्ली पुलिस ने कहा कि इस मामले की जांच के लिए चारों आरोपितों की हिरासत 15 दिन बढ़ाने की जरूरत है। दिल्ली पुलिस की ओर से पेश वकील अतुल श्रीवास्तव ने कहा कि आरोपितों के खिलाफ आरोप गंभीर हैं और यूएपीए की धारा 16ए के तहत आरोप हैं। उन्होंने कहा कि आरोपितों ने लखनऊ से जूते और कलर स्मॉग केन मुंबई से खरीदे थे। कोर्ट ने दिल्ली पुलिस की मांग पर नीलम, सागर शर्मा, डी. मनोरंजन और अमोल शिंदे की पुलिस हिरासत 15 दिनों के लिए बढ़ाने का आदेश दिया है।

आरोपितों के खिलाफ यूएपीए के तहत एफआईआर दर्ज

कोर्ट ने 15 दिसंबर को इस मामले के मुख्य आरोपित ललित झा को 7 दिनों की पुलिस हिरासत में भेजा था। उसके बाद कोर्ट ने 16 दिसंबर को छठे आरोपित महेश कुमावत को भी 7 दिनों की पुलिस हिरासत में भेजा था। दिल्ली पुलिस ने इन आरोपितों के खिलाफ यूएपीए के तहत एफआईआर दर्ज की है।

किस तरह से लोकसभा में घुसपैठ हुई थी

दरअसल, 13 दिसंबर को संसद की विजिटर गैलरी से दो युवक चैंबर में कूदे। कुछ ही देर में एक युवक ने डेस्क के ऊपर चलते हुए अपने जूतों से कुछ निकाला और अचानक पीले रंग का धुआं निकलने लगा। इस घटना के बाद सदन में अफरा-तफरी मच गई। हंगामे और धुएं के बीच कुछ सांसदों ने इन युवकों को पकड़ लिया और इनकी पिटाई भी की। कुछ देर के बाद संसद के सुरक्षाकर्मियों ने दोनों युवकों को कब्जे में ले लिया। संसद के बाहर भी दो लोग पकड़े गए, जो नारेबाजी करने के साथ पीले रंग का धुआं छोड़ रहे थे।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.