Indian Navy: ईरान की मदद के लिए आगे आया भारत, अरब सागर में नौसेना ने सोमलिया के समुद्री डाकुओं को खदेड़ा

New Delhi: बीते कुछ दिनों से अरब सागर में जहाजों पर हमले बढ़ गए हैं। पहले हूती विद्रोहियों ने हमला किया, अब सोमालियाई समुद्री डाकुओं ने ईरान के मछुआरों पर हमला किया, जिसका भारत ने मुहं-तोड़ जवाब दिया।
INS Sumitra
INS SumitraRaftaar.in

नई दिल्ली, हि.स.। अरब सागर में कोच्चि से 700 समुद्री मील दूर पश्चिम में सोमालियाई समुद्री डाकुओं ने मछली पकड़ने वाले ईरानी जहाज एमवी इमान का अपहरण कर लिया। जहाज पर सवार 17 क्रू सदस्यों और अपहृत मछुआरों को बचाने के लिए भेजे गए भारतीय नौसेना के युद्धपोत आईएनएस सुमित्रा ने सोमालिया के समुद्री डाकुओं को खदेड़ दिया है।

INS सुमित्रा ने सोमालिया के समुद्री डाकुओं को खदेड़ा

अरब सागर में कोच्चि से 700 समुद्री मील पश्चिम में सोमालियाई समुद्री डाकुओं ने लगभग 17 क्रू सदस्यों वाले ईरानी मछली पकड़ने वाले जहाज एमवी इमान को अपहृत कर लिया था। भारतीय रक्षा अधिकारियों ने सोमवार को दोपहर में बताया कि अपहृत मछुआरों को बचाने के लिए भारतीय युद्धपोत आईएनएस सुमित्रा को भेजा गया। युद्धपोत ने अपहृत इस जहाज को बचाने के लिए तत्काल ऑपरेशन शुरू किया।

ईरानी मछुआरों की भारत ने बचाई जान

रक्षा अधिकारियों ने बताया कि भारतीय नौसेना के युद्धपोत आईएनएस सुमित्रा ने मछली पकड़ने वाले जहाज इमान को सोमालियाई समुद्री लुटेरों से सुरक्षित बचा लिया है। समुद्री लुटेरों को निहत्था कर दिया गया है और सोमालिया की ओर बढ़ने को कहा गया है। युद्धपोत पर मौजूद एएलएच ध्रुव हेलीकॉप्टरों ने अपहृत जहाज को चारों ओर से घेर लिया था, ताकि उस पर मौजूद समुद्री डाकुओं को चेतावनी दी जा सके। ईरानी जहाज को बचाने के बाद भारतीय युद्धपोत आईएनएस सुमित्रा अब इलाके से बाहर निकल गया है।

भारतीय नौसेना ने लाइबेरिया की भी की मदद

भारतीय नौसेना के इलीट मरीन कमांडो ने इससे पहले भी अरब सागर में एक सफल ऑपरेशन में लाइबेरिया के झंडे वाले समुद्री जहाज को अपहरण से बचा लिया। एमवी लीला नॉरफॉक नाम के इस समुद्री जहाज में चालक दल के 21 सदस्यों में से 15 भारतीय नागरिक थे। हालांकि ऑपरेशन के दौरान वहां अपहरणकर्ता नहीं मिले लेकिन मरीन कमांडो उन्हें अभी भी तलाश रहे हैं। उत्तरी अरब सागर में भारतीय नौसेना के इस ऑपरेशन की खास चर्चा रही।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.