Indian Navy Action: अरब सागर में लाइबेरियाई जहाज के अपहरण की थी कोशिश, भारतीय नेवी ने खदेड़ा

Indian Navy Action: अरब सागर में सोमालिया के पास लाइबेरिया ध्वज वाले व्यापारिक जहाज एमवी लीला को अपहृत करने का प्रयास किया गया है, लेकिन भारतीय नौसेना के माकूल जवाब के बाद यह घटना होने से बच गई है।
Indian Navy
Indian Navyraftaar.in

नई दिल्ली, (हि.स.)। अरब सागर में सोमालिया के पास लाइबेरिया ध्वज वाले व्यापारिक जहाज एमवी लीला को अपहृत करने का प्रयास किया गया है, लेकिन भारतीय नौसेना के माकूल जवाब के बाद इस घटना को टाल दिया गया है। नौसेना ने जहाज की सहायता के लिए आईएनएस चेन्नई को मौके पर भेजा है।

पांच से छह अज्ञात सशस्त्र कर्मियों के सवार होने का संकेत दिया था

दरअसल, लाइबेरिया ध्वज वाले व्यापारिक जहाज एमवी लीला ने 04 जनवरी की शाम को लगभग पांच से छह अज्ञात सशस्त्र कर्मियों के सवार होने का संकेत दिया था। जहाज के चालक दल की ओर से यूनाइटेड किंगडम समुद्री व्यापार संचालन (यूकेएमटीओ) पोर्टल पर संदेश मिलने के बाद भारतीय नौसेना सक्रिय हुई। यूकेएमटीओ व्यापारिक जहाजों के लिए संपर्क और क्षेत्र में सैन्य बलों के साथ संपर्क के प्राथमिक बिंदु के रूप में कार्य करता है।

आईएनएस चेन्नई को मौके पर भेजने के लिए डायवर्ट कर दिया है

सोमालिया के पास व्यापारिक जहाज एमवी लीला का अपहरण होने के संकेत मिलने के बाद भारतीय नौसेना के मिशन में तैनात प्लेटफार्मों ने अरब सागर में इस समुद्री घटना पर तेजी से प्रतिक्रिया दी। भारतीय नौसेना ने तत्काल एक समुद्री गश्ती विमान (एमपीए) लॉन्च किया और जहाज की सहायता के लिए आईएनएस चेन्नई को मौके पर भेजने के लिए डायवर्ट कर दिया है। विमान ने आज सुबह जहाज के ऊपर से उड़ान भरी और चालक दल की सुरक्षा सुनिश्चित करते हुए जहाज के साथ संपर्क स्थापित किया।

नौसेना के विमान समुद्री गतिविधियों पर नजर रख रहे हैं

नौसेना के कमांडर विवेक मधवाल के मुताबिक नौसेना के विमान समुद्री गतिविधियों पर नजर रख रहे हैं और आईएनएस चेन्नई लाइबेरियाई जहाज को सहायता देने के लिए पहुंच रहा है। पूरे क्षेत्र में अन्य एजेंसियों और बहुराष्ट्रीय बल के समन्वय से समग्र स्थिति पर बारीकी से नजर रखी जा रही है। भारतीय नौसेना अंतरराष्ट्रीय साझेदारों और मित्रवत देशों के साथ क्षेत्र में व्यापारिक जहाजरानी की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.