Loksabha Election: क्यों जरुरी है BJP- TDP और JSP का गठबंधन? बात बनने पर लोकसभा में कैसा रहेगा माहौल?

Loksabha Election: भाजपा आगामी लोकसभा चुनाव में अपने मिशन 370 को पूरा करने के लिए आंध्र प्रदेश में TDP और JSP के साथ गठबंधन करने के लिए तैयार है।
 TDP, JSP and BJP
TDP, JSP and BJPraftaar.in

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। भाजपा आगामी लोकसभा चुनाव में अपने मिशन 370 को पूरा करने के लिए आंध्र प्रदेश में TDP और JSP के साथ गठबंधन करने के लिए तैयार है। जिसको लेकर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) के प्रमुख चंद्रबाबू नायडू और जनसेना संस्थापक पवन कल्याण को गुरुवार को अपने दिल्ली आवास बुलाया था, जहां बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा भी मौजूद थे, चारों ने देर रात तक सीट शेयरिंग को लेकर लंबी चर्चा की थी। लेकिन अभी तक भाजपा का TDP और JSP के साथ सीट शेयरिंग को लेकर बात नहीं बन पायी है। भाजपा का जल्द ही इस मामले को निपटा लेने की संभावना है।

चंद्रबाबू नायडू भाजपा और जनसेना को मिलाकर 6 लोकसभा सीट देना चाहते हैं

मिली जानकारी के अनुसार भाजपा आंध्र प्रदेश की 25 लोकसभा सीटों में से 6 सीटों में चुनाव लड़ना चाहती हैं। वहीं तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) के प्रमुख चंद्रबाबू नायडू बीजेपी के लिए केवल 4 लोकसभा सीटें देना चाहती है। ये राजमुंदरी, तिरूपति, राजमपेट और अराकू की लोकसभा सीटें हैं। वहीं चंद्रबाबू नायडू भाजपा और जनसेना को मिलाकर 6 लोकसभा सीट देना चाहते हैं।

क्यों है जरुरी है BJP और TDP का गठबंधन?

BJP अभी तक आंध्र प्रदेश में अपने पैर नहीं जमा पाई है और राज्य में पिछले चुनाव में हार गई थी। BJP राज्य में अपनी उपस्थिति बढ़ाना चाहती है। TDP-JSP के साथ गठबंधन करने से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा निर्धारित 370 लोकसभा सीटों के अपने महत्वाकांक्षी लक्ष्य तक पहुंचने में मदद मिलेगी। वहीं TDP के एक नेता ने नाम न उजागर करने की शर्त पर इंडियन एक्सप्रेस अखबार को कहा कि "यह गठबंधन सत्तारुढ़ YSR कांग्रेस को संदेश देगा कि केंद्र सरकार TDP के साथ है। आपको बता दें कि YSR कांग्रेस और BJP के आपस में अच्छे संबंध हैं। पिछले साल सितंबर में आंध्र प्रदेश कौशल विकास निगम घोटाले में चंद्रबाबू नायडू की गिरफ्तारी के बाद से TDP ने BJP को अपने पक्ष में करने का सोचा। TDP-JSP के गठबंधन की घोषणा तब की गई जब चंद्रबाबू नायडू जेल में थे।

BJP-TDP का लोकसभा चुनाव में कैसा रहा प्रदर्शन?

साल 1996 में TDP अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में NDA में शामिल हो गई। उस समय चंद्रबाबू नायडू गठबंधन के संयोजक थे। 2014 लोकसभा चुनावों में भी TDP ने NDA में शामिल होकर चुनाव लड़ा। TDP ने 25 सीटों में से 15 सीटें जीतीं तकरीबन 40% से अधिक वोट शेयर के साथ। जबकि BJP ने 7% वोट शेयर के साथ 2 सीटें जीतीं। 2019 लोकसभा चुनावों में TDP ने NDA का दामन छोड़ दिया। दोनों पार्टियों ने अलग-अलग चुनाव लड़ा। TDP का वोट शेयर लगभग बरकरार रहा, लेकिन उसकी सीटें घटकर सिर्फ 3 रह गईं। इस दौरान BJP को एक भी सीट नहीं मिली और उसे केवल 0.98% वोट मिले।

दोनों ही दल अब भाजपा के साथ गठबंधन करना चाहते हैं

आंध्र प्रदेश की सत्ता से वाईएसआर कांग्रेस के जगनमोहन रेड्डी को हटाने के लिए अभिनेता पवन कल्याण और चंद्रबाबू नायडू की पार्टी ने गठबंधन कर लिया है। दोनों ही दल अब भाजपा के साथ गठबंधन करना चाहते हैं। इसको लेकर टीडीपी नेताओं का भाजपा के लिए संदेश है की गठबंधन बनाने में अब और देरी नहीं करनी चाहिए, यह दोनों दलों के लिए ठीक नहीं रहेगा। लोकसभा चुनाव नजदीक आ गए हैं कोई भी गलतफहमी कार्यकर्ताओं व समर्थकों को डगमगा सकती है।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.