Gold Price: सोने में निवेश करने वालों की 'चांदी', खरीदारों के छूटेंगे पसीने

Today Gold Price: सोने के निवेशकों के लिए बेहद अच्छी खबर है। कुछ नए सिरे से खरीदारी की गति देख रही है, क्योंकि फेडरल रिजर्व ने संकेत दिया है कि इस साल वह तीन बार ब्याज दरें कम करने की राह पर है।
सोने का दाम।
सोने का दाम। रफ्तार।

नई दिल्ली, रफ्तार। सोने के निवेशकों के लिए बेहद अच्छी खबर है। कुछ नए सिरे से खरीदारी की गति देख रही है, क्योंकि फेडरल रिजर्व ने संकेत दिया है कि इस साल वह तीन बार ब्याज दरें कम करने की राह पर है। इसके बाद सोने की कीमत में तेजी बढ़ी है। अप्रैल की समाप्ति के लिए मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (एमसीएक्स) पर सोने का वायदा अनुबंध 66100 रुपए प्रति 10 ग्राम पर खुला। आज कमोडिटी बाजार खुलने के कुछ मिनटों के अंदर यह 66778 रुपये प्रति 10 ग्राम के उच्चतम स्तर को छूआ। दूसरी ओर सोने के दामों में बढ़ोतरी से आम ग्राहकों को अधिक रकम खर्च करनी पड़ेगी।

चांदी, प्लैटिनम और पैलेडियम सभी भी ऊंचे

जानकारों का कहना है कि फेड रिजर्व का यह संकेत वास्तव में सोने के व्यापारियों को वापस आने को हरी झंडी थी। फेड का कहना है कि अभी वे मुद्रास्फीति के प्रति सहनशील बने हुए हैं। 21 मार्च को सिंगापुर में सुबह 9:40 बजे तक हाजिर सोना 0.7% बढ़कर 2,201.94 डॉलर प्रति औंस हुआ था। ब्लूमबर्ग डॉलर स्पॉट इंडेक्स में 0.2% की गिरी। चांदी, प्लैटिनम और पैलेडियम सभी ऊंचे थे।

क्यों बढ़ रही हैं सोने की कीमतें ?

हाल में सोने की कीमतें एक नई सर्वकालिक ऊंचाई पर पहुंच गई हैं। इसमें बढ़ोतरी की गुंजाइश बनी है। दरअसल,कुछ देशों में सोने की खरीदारी जारी है। सोने की मजबूत भौतिक मांग एक सुरक्षित संपत्ति के रूप में इसकी अपील एवं दूसरी एसेट कैटेगरी में कमजोर प्रदर्शन के बीच विविधता लाने की चाह रखने वाले निवेशकों के कारण भी बढ़ गई है।

भारत में सोना काफी महत्वपूर्ण

सोना हमेशा से बेशकीमती उपहार है। भारत में यह बेहद खास है। शादी के मौसम का बड़ा हिस्सा है। डब्ल्यूजीसी ने कहा कि भारत की सोने के आभूषणों की खपत की मांग 2023 में एक साल पहले की तुलना में 6% घटी है। यह 562.3 टन रह गई। सोने की छड़ों और सिक्कों में भारत का निवेश साल-दर-साल 7% बढ़ा। RBI की सोने की मांग भी मजबूत बनी है। RBI ने जनवरी में 8.7 टन सोना खरीदा था। यह जुलाई 2022 के बाद से सबसे अधिक मंथली खरीद है।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.