Vastu Tips : वैवाहिक जीवन में आ रही परेशानी को दूर कीजिये बस इन आसान से टिप्स को अपनाकर !!

Vastu Upay : यदि आपके वैवाहिक जीवन में भी किसी कारण परेशानी चल रही है, तो आप वास्तु शास्त्र की सहायता से रिश्ते को पहले की तरह सुंदर बना सकते हैं।
Vastu Tips
Vastu Tips www.raftaar.in

नई दिल्ली , 28 नवंबर 2023 : वास्तु शास्त्र के अनुसार वैवाहिक जीवन को सुखमय बनाने के लिए कुछ उपाय बताए गए हैं। इन उपायों को अपनाने से पति-पत्नी के बीच के संबंधों में सुधार हो सकता है।

बेडरूम का रंग

बेडरूम का रंग पति-पत्नी के रिश्ते पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालता है। इसलिए बेडरूम के लिए हल्का हरा, गुलाबी, सफेद, नीला, पीला जैसे रंगों का चुनाव करना चाहिए। ये रंग सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाते हैं और रिश्ते में प्रेम और रोमांस को बढ़ावा देते हैं।

बेड की दिशा

बेडरूम में बिस्तर हमेशा उत्तर-पश्चिम या दक्षिण-पश्चिम दिशा में लगाना चाहिए। पूर्व या दक्षिण-पूर्व दिशा में बिस्तर लगाने से रिश्ते में दूरियां आ सकती हैं।

पति-पत्नी की दिशा

सोते समय पति को हमेशा पत्नी के बाईं ओर सोना चाहिए। इससे रिश्ते में प्यार और समझदारी बढ़ती है।

तस्वीरें और फूल

बेडरूम में जोड़े में पक्षियों की तस्वीर या राधा-कृष्ण की तस्वीर लगाने से रिश्ते में प्रेम और रोमांस बढ़ता है। इसके अलावा, बेडरूम में सुगंधित फूल रखने से भी रिश्ते में सकारात्मकता आती है।

दर्पण

बेडरूम में बहुत बड़े आकार का शीशा या बिस्तर के सामने दर्पण लगाने से रिश्ते में कलह और तनाव बढ़ सकता है। इसलिए, बेडरूम में दर्पण लगाने से बचना चाहिए।

इलेक्ट्रॉनिक्स सामान

बेडरूम में अत्यधिक इलेक्ट्रॉनिक्स सामान रखने से नकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है। इससे पति-पत्नी के बीच के संबंधों में तनाव और चिड़चिड़ापन पैदा हो सकता है। इसलिए, बेडरूम में केवल आवश्यक इलेक्ट्रॉनिक्स सामान रखें।

शादी की तस्वीर

बेडरूम में शादी की तस्वीर लगाने से रिश्ते में प्रेम और रोमांस बढ़ता है। इसलिए, बेडरूम में पश्चिम दिशा की दीवार में शादी की तस्वीर लगाना चाहिए।

इन वास्तु उपायों को अपनाकर आप अपने वैवाहिक जीवन को सुखमय बना सकते हैं।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.