Vastu Tips: रुद्राक्ष को पहनने से लेकर रखने तक का नियम, भूल कर भी न करें ये गलतियां

हिंदू धर्म में रुद्राक्ष को पहनना काफी शुभ माना जाता है। लेकिन वास्तु शास्त्र में इससे जुड़े कई बातें हैं जिसे जानना आपके लिए जरूरी है।
Vastu Tips of Rudraksha
Vastu Tips of Rudrakshawww.raftaar.in

नई दिल्ली रफ्तार डेस्क।26 April 2024। रुद्राक्ष शंकर भगवान का वरदान माना जाता है। कहते हैं कि जो व्यक्ति रुद्राक्ष को धारण करता है उस पर महादेव की कृपा बनी रहती है। इसके साथ थी वह अकाल मृत्यु से भी दूर रहता है। लेकिन वास्तु में रुद्राक्ष को पहनने का सही नियम वह महत्व बताया गया है तो आप इसे एक बार जरूर जान लें।

रुद्राक्ष को पहनने का सही नियम

वास्तु शास्त्र के अनुसार रुद्राक्ष की माला को सोमवार के दिन धारण करना काफी शुभ माना जाता है। क्योंकि सोमवार का दिन भगवान भोलेनाथ को समर्पित है। लेकिन एक बात का ध्यान रहे रुद्राक्ष की माला में कम-से-कम 27 मनके होने चाहिए।

कैसा होना चाहिए माला का धागा

रुद्राक्ष की माला पहनते समय या बनाते समय इस बात का ध्यान रखें। माला में कभी भी काले धागे का प्रयोग ना करें हमेशा लाल और पीले रंग का ही धागा ले। क्योंकि काला रंग अशुभ माना जाता है।

रुद्राक्ष का ना करें लेनदेन

अगर कोई व्यक्ति रुद्राक्ष की माला पहना हुआ है। तो उसे ना ही वह माल किसी को देना चाहिए। ना किसी और से उसकी माला लेनी चाहिए। क्योंकि ऐसा करने से व्यक्ति की नकारात्मकता और सकारात्मक भी उस माला के साथ दूसरे व्यक्ति पर पहुंच जाती है।

ना करें ये गलती

रुद्राक्ष की माला को बहुत ही पवित्र माना गया है इसलिए कभी भी बिना स्नान किए इसे धारण न करें। रुद्राक्ष की माला धारण करते समय भोलेनाथ का स्मरण करते हुए ऊँ नम: शिवाय का जाप करना न भूलें।

रुद्राक्ष से करें नकारात्मकता को दूर

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में रुद्राक्ष का तोरण लगाने से घर की सारी नकारात्मकता दूर हो जाती है। वहीं, अगर कोई व्यक्ति बीमार रहता है तो वह ठीक हो जाता है।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.