Vastu Mantra: नमक से जागेगा आप का भाग्य, जानिए क्या कहता है वास्तु शास्त्र

अगर आप भी वास्तु दोष से परेशान है। तो नमक आपके लिए काफी अच्छा साबित होगा। नमक से होने वाले ऐसे कई फायदे हैं जिनका इस्तेमाल करके आप वासुदेव से मुक्त हो सकते हैं।
Vastu Tips of Salt
Vastu Tips of Saltwww.raftaar.in

नई दिल्ली रफ्तार डेस्क 22January2024 : खाने में स्वाद बढ़ाने के साथ-साथ नमक और भी कई चीजों में काम आता है। वास्तु शास्त्र के हिसाब से नमक का इस्तेमाल हम अपने घर में वास्तु दोष से मुक्त होने के लिए भी कर सकते हैं। इसके लिए वास्तु शास्त्र में नमक से जुड़े कई सारे उपाय और नियम बताए गए हैं।

नमक से होने वाले फायदे

  • अगर आप हर समय थका और हारा हुआ महसूस करते हैं, तो निजात पाने के लिए रोजाना पानी में नमक मिलाकर स्नान करें। इस उपाय को करने से बुरी बला टल जाती है। साथ ही घर से नकारात्मक शक्तियां भी दूर हो जाती हैं।

  • वास्तु शास्त्र के अनुसार, यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में शुक्र ग्रह कमजोर है, तो उसे नमक का दान करना चाहिए इस उपाय से उसका शुक्र मजबूत होगा।

  • आज के समय में इंसान अक्सर स्ट्रेसफुल लाइफ बीतता है। वहीं वास्तु शास्त्र के अनुसार, यदि कोई व्यक्ति मानसिक तनाव से गुजर रहा है तो एक रुमाल में सेंधा नमक बांधकर उसे व्यक्ति को अपने पास रखना चाहिए। इस उपाय से तनाव से मुक्ति मिल सकती।

  • सुबह उठकर एक जल में एक चुटकी नमक मिला लें। अब इस पानी को घर के मुख्य दरवाजे पर छिड़क दें। इस उपाय को करने से आर्थिक समस्या दूर हो जाती है। और घर में पैसों की कमी नहीं होती। इसके साथ-साथ ही हर शनिवार को घर में नमक डालकर पोछा लगाने से मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है।

  • थोड़ा सा नमक हथेली पर लें। इसके बाद सिर से पांच बार उसार कर बहता जल में प्रवाहित कर दें। इस उपाय को करने से नकारात्मक शक्तियां घर से दूर हो जाती हैं। साथ ही मनपसंद नौकरी मिलती है।

  • वास्तु के अनुसार बाथरूम के अंदर एक कांच की कटोरी में सेंधा नमक रखने से नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है। ऐसा करने से घर से दरिद्रता भागती है। यह वातावरण को शुद्ध करता है और इससे लक्ष्मी प्राप्ति के मार्ग खुल जाते हैं।

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

डिसक्लेमर

इस लेख में प्रस्तुत किया गया अंश किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की पूरी सटीकता या विश्वसनीयता की पुष्टि नहीं करता। यह जानकारियां विभिन्न स्रोतों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/प्रामाणिकताओं/धार्मिक प्रतिष्ठानों/धर्मग्रंथों से संग्रहित की गई हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना प्रस्तुत करना है, और उपयोगकर्ता को इसे सूचना के रूप में ही समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसका कोई भी उपयोग करने की जिम्मेदारी सिर्फ उपयोगकर्ता की होगी।

Related Stories

No stories found.