Relationship tips
Relationship tips Pixabay

पति की इन हरकतों को न करें इग्नोर, नहीं तो लाइफ में कभी नहीं आएगा सुकून

महिलाओं को इन बातों का खास ध्यान रखना चाहिए। जिससे उनके जीवन में मैरिज लाइफ हमेशा ही अच्छी रहेगी।

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क| जब भी रिलेशनशिप का जिक्र होता है। तो कभी न कभी एडजस्टमेंट की चर्चा भी होने लगती है। एडजस्टमेंट करना जरूरी है लेकिन इसका ये मतलब नहीं कि आप हर बात में झुक जाएं। आज के दौर में रिलेशनशिप में कनेक्शन जरूरी रहता है। प्यार की फीलिंग हमको खुश रखती है। लेकिन कई बार हम रिलेशनशिप में प्यार नहीं स्ट्रेस पाते हैं।

पती और पत्नी के रिश्ते में कुछ अलग नियम होते हैं। लेकिन आपको रिश्ते की मर्यादा भी अलग होती है। एब्यूसिव रिश्ता तो एकदम अलग होता है। लोगों को लगता है कि उनको इसमें भी हर तरह का एडजस्टमेंट करना चाहिए। लेकिन ऐसी जरुरी होता है हर बात को झेलना शुरु करें।

पति का पत्नी पर उठाना हाथ

ये किसी वजह से लाजमी नहीं होता है। आप इन तरीके की चीजों को सहीं नहीं बोल सकते हैं। अकसर महिलाओं पर घरेलू हिंसा के मामले सामने आते हैं। पिछले कुछ समय मे जारी हुए सर्वे में सामने आया कि घरेलू हिंसा भारत में बढ़ रही है। वहीं इससे निकलने का प्रयास करना आवश्यक है।

पति का पत्नी से हमेशा झूठ बोलते रहना

पति महिलाओं से अकसर झूठ बोलते है। वे बातों को इग्नोर कर उनको माफ कर देती हैं। लेकिन लिमिट पार होने के बाद हालात बदल जाते हैं। ऐसे फिर झूठ बोलने से भरोसा कम होता है। क्योंकि भरोसा ही रिश्ते की नींव होता है।

पति का अधिक कंट्रोल करना है गलत

पति आप पर थोड़ा अधिकार दिखाते हैं तो गलत नहीं है। लेकिन अगर वो आपके हर कदम को कंट्रोल करना का प्रयास करें और किसी फैसले का लायक ना समझें तो ये भी गलत होगा। कंट्रोल बिहेवियर रिलेशनशिप को अझेल सा बनाने लगता है। तो आपको ज्यादा कंट्रोल करना भी नहीं सहना चाहिए।

आत्मसम्मान है बहुत जरुरी

आपका आत्म सम्मान कई तरह से बना रहना चाहिए। आप किसी भी हाल में आत्म सम्मान ना खोएं। अगर आप खुद ही किसी को कुछ नहीं बोलते हैं तो आपको काफी दिक्कत होगी। अगर पति हर बार अपमान करते हैं तो आपको हक के लिए बोलना चाहिए। हमेशा सच के लिए आवाज बुलंद करनी चाहिए।

मेंटल एब्यूज ना करें सहन

आज अकसर मेंटल व इमोशनल एब्यूज के बारे में सुनते हैं। जो की हर रिश्ता पर लागू होता है। किसी को बार बार बुरा कहना इस श्रेणी में शामिल है। किसी को धमकी देना भी इसका हिस्सा है। इसके अलावा बार बार छोड़ने की धमकी, फाइनेंशियल सपोर्ट खत्म करने की धमकी, घर से निकालने की धमकी भी इस श्रेणी मे आता है। मेंटल और इमोशनल एब्यूज सहने से मानसिक ही नहीं बल्कि शारीरिक स्वास्थ्य पर भी प्रभाव पड़ता है।

Related Stories

No stories found.