ठंड में खाएं दही, शरीर रहेगा गर्म: जानिए दही खाने का सही तरीका

कहा जाता है की दही ठंडा होता है और सर्दियों में इसे नहीं खाना चाहिए पर डॉक्टर की माने तो दही की तासीर गर्म होती है और सर्दियों में दही खाना चाहिए चलिए जानते हैं दही खाने का सही तरीका...
खाएं दही
खाएं दहीgoogle

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। ज्यादातर लोगों का कहना होता है कि सर्दियों के मौसम में दही खा लेने से सर्दी लग जाती है, पर लोगों की यह बहुत बड़ी गलतफहमी है। असल में शरीर के तापमान को बनाए रखने के लिए सर्दियों में हमारे शरीर को गर्म तासीर वाले खाने के साथ दही भी खाना चाहिए। डॉक्टर की मानें तो आयुर्वेद में गाय के दूध के दही को सर्वोत्तम माना गया है लेकिन ज्यादातर बाजारों में भैंस के दूध का दही मिलता है जिसको खाने से कब्ज़ संबंधी दिक्कतें होने लगती हैं।

सर्दियों के खाने में दही का कॉन्बिनेशन -

सर्दियों के मौसम में अपने खाने में आप दही शामिल कर सकते हैं क्योंकि ऐसी कड़ाके की ठंडक में दही कहीं ना कहीं आपको राहत देता है क्योंकि इसमें हेल्दी प्रोबायोटिक होते हैं जो पेट के लिए जरूरी होते हैं जब आप रात के समय भोजन ग्रहण करते हैं उस दौरान आप खाना खाकर सो जाते हैं यदि आप रात के भोजन में दही का सेवन करते हैं तो दही आपके खाने को पचाने में भी मदद करता है इससे मेटाबॉलिज्म दुरुस्त रहता है जो कि शरीर को आंतरिक रूप से गर्मी पैदा करने में मदद करता है यह प्रोबायोटिक डाइजेशन में मदद करते हैं और हमारे शरीर को बीमारियों से लड़ने की ताकत देते हैं, यदि आपको बुखार या जुखाम है तो आपको इस बात का ख्याल रखना है कि फ्रिज में रखे दही को सीधे तौर पर निकाल कर न खाएं क्योंकि इससे आपके शरीर को नुकसान पहुंच सकता है सर्दियों के मौसम में दही में काली मिर्च पाउडर डालकर खाने से गला खराब नहीं होता है।

हमें किन चीजों के साथ दही नहीं खाना चाहिए चलिए जानते हैं -

दही को खट्टे फलों के साथ नहीं खाना चाहिए इससे हाजमा बिगड़ने और स्किन एलर्जी का डर होता है, पराठा और पूड़ी के साथ दही को शामिल ना करें, किसी भी तली-भुनी चीजों के साथ दही का सेवन न करें, दही खाने के तुरंत बाद प्याज का सेवन न करें इससे पेट दर्द सूजन और उल्टी जैसी समस्याएं शरीर में उत्पन्न हो जाती हैं और दही को मछली के साथ नहीं खाना चाहिए इससे पेट में ब्लोटिंग एसिडिटी हो सकती है।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.