महिलाओ के पांच गुण करते है उनके चरित्र और स्वभाव का चित्रण, आप भी जानिए

कहते है पति-पत्नी का रिश्ता भरोसे पर चलता है। पति के सफल जीवन में पत्नी की बहुत बड़ी भूमिका होती है। एक स्त्री के कुछ गुण घर को सुखी और समृद्ध बनाते हैं।
Tips for Women
Tips for Women Social Media

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क: माना जाता है कि एक महिला में वह ताकत होती है।  जो परिवार को बना भी सकती है और परिवार को बिखरा भी सकती है। लेकिन आज के दौर में परिवार के साथ रहने वाली और एकता का परिचय देने वाली महिलाएं बहुत कम है।  क्योंकि हमारे शास्त्रों में कहा गया है कि स्त्री के चरित्र को ना तो अभी तक कोई समझ पाया है और ना ही कोई समझ पाएगा। स्त्री वही अच्छी होती है। जो परिवार के साथ चले। समाज  उसकी इज्जत की तारीफ करें। वहीं अगर एक स्त्री के अंदर यह पांच गुण होते हैं तो या उसके चरित्र और स्वभाव का चित्रण करते हैं।  हर कोई इस तरह की स्त्री को पाना पसंद करता है तो चलिए जानते हैं ऐसे कौन से गुण हैं। जो एक अच्छी और सुशील स्त्री की निशानी होती है।

वाणी में मधुरता

स्त्री की वाणी बहुत ही मधुर होनी चाहिए।  स्त्री को कड़वे सच नहीं बोलनी चाहिए।  जिस स्त्री की बॉडी मधुर वा प्यारी होती है।  और  किसी प्रकार से अपने मुंह से अपशब्द नहीं निकलती है।  वह स्त्री निश्चित तौर पर बहुत ही अच्छे संस्कार वाली होती है।

साहस

स्त्रियों में पुरुष की तुलना में 6 गुना साहस होता है। स्त्रियां  समय आने पर हर स्थिति से निपटने में महारत हासिल होती है।  उनके अंदर किसी चीज का डर भय और दबाव बिल्कुल नहीं होता।  वह अपने काम को लेकर निपुण होती हैं और समय आने पर वह खुद अकेले लड़ सकती है।

सहनशील स्त्री

पत्नी सहनशील होनी चाहिए। ताकि मुश्किल घड़ी में घर को धैर्य के साथ जोड़कर रख सके । जो पत्नी या स्त्री सहनशीलता बनाए रखती है। उसका भविष्य बहुत उज्ज्वल होता है  साथ ही वह बहुत ही अच्छी स्त्री होती समाज और परिवार को साथ लेकर चलने वाली  होती है। ऐसी स्त्री की चारों तरफ प्रसंशा होती है।

संतुष्ट स्त्री

स्त्री का संतुष्ट होना किसी भी मामले में बहुत मायने रखता है।  लालची स्त्री घर को तहस-नस और बर्बाद कर सकती है। इसलिए ऐसी स्त्रियों से दूर रहना चाहिए । संतुष्ट स्त्री हर परिस्थिति में खुद को ढाल लेती है।  साथ ही अपने मान मर्यादाओं का भी ख्याल रखती है।  वह कभी किसी से शिकायत नहीं करती। सिर्फ  परिवार को ही अपनी प्राथमिकता देती है। 

दया और विनम्रता

जिस स्त्री के पास दया और विनम्रता होती है।  वह सदैव सम्मान प्राप्त करती है । जो स्त्री अपने क्रोध पर काबू नहीं कर पाती वह अपना तो नुकसान करती है।  साथ ही  पूरे परिवार को ले डूबती है। इसलिए दया और विनम्रता वाली स्त्री को हमेशा अपनाना चाहिए। वह घर को स्वर्ग से सुंदर बना सकती है। 

Related Stories

No stories found.