Travel Tips : America जाने का बना रहे हैं प्लान, जानें वीजा से जुड़ीं ये अहम बातें

अमेरिका जाने का प्लान बना रहे हैं तो वीजा से जुड़ी अहम बात जान लें। जिससे आपको किसी तरह की परेशानी नहीं होगी।
Travel Tips
Travel Tips Pixabay

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क | अगर आप अमेरिका की यात्रा करने की योजना बना रहे हैं तो आपके लिए सबसे बड़ी दिक्कत वीजा होगी। वीज़ा हासिल हासिल करना है तो आपके लिए सबसे मुश्किल अपाइंटमेंट होता है। वीज़ा अपॉइंटमेंट का वेटिंग टाइम इतना रहता है कि आपको लगभग 1000 दिनों तक वेट करना रहता है। इसके पहले अमेरिकी विदेश विभाग ने बताया कि वो भारत में वीजा अपाॅइंटमेंट का वेट टाइम करने का प्रयास कर रहे हैं।

वीजा एप्लीकेशन के बैकलॉग की लोगों को चिंता होती है। इसके जवाब में अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता नेड प्राइस ने कहा वो उन लोगों की बेचैनी को समझ रहे हैं जो लंबे समय से वीज़ा के इंतजार कर रहे हैं। उन्होंने आश्वासन दिया कि वे टाइम ड्यूरेशन को कम करने की पूरी कोशिश में लगे हुए हैं। अमेरिका की यात्रा के लिए कई तरह के वीजा हं। अहम है कि आप सही वीजा को चुनें। वीज़ा की रिक्वायरमेंट और लिमिट्स के बारे में जानते हैं तो वीजा हासिल करने में परेशानी नहीं होगी। आइए वीजा से जुड़े हुए कुछ नियम और प्रक्रिया के बारे में जान लेते हैं।

टूरिस्ट वीजा में शामिल करें ये वीजा

'B-2 टूरिस्ट वीजा' अमेरिका में सबसे इस्तेमाल किए जाने वाला वीजा में शामिल है। घूमने के मकसद या बीमारी का इलाज कराना है तो अमेरिका जाने वाले लोग इस वीजा के लिए एलिजिबल रहते हैं। B-2 वीजा को लेकर एलिजिबल होने के वास्ते आपको यह दिखाना होगा कि आप टेम्परेरी तौर पर अमेरिका पहुंच रहे हैं। अपनी यात्रा को खर्चा को करना है तो पर्याप्त पैसा है। इसको लेकर कन्फर्म टिकट और होटल रिजर्वेशन से जुड़ी जानकारी भी जरुरी होती है। बी 2 वीजा आमतौर पर देखा जाए तो 6 महीने के वैध रहता है। इसे 6 महीने तक बढ़ाया जाता है।

स्टूडेंट वीजा के लिए जानें ये नियम

स्टूडेंट वीज़ा- F-1 स्टूडेंट वीज़ा उन छात्रों को लेकर है जो किसी मान्यता प्राप्त शैक्षणिक संस्थान में पढ़ाई करने के लिए अमेरिका जा रहे हैं। एफ 1 वीजा में एलिजिबल होने के लिए आपको ऐसे में फुल टाइम एकेडमिक या लैंग्वेज प्रोग्राम में एडमिशन मिलना जरुरी है।

जो फाॅर्म i-20 जारी करना जरुरी है। इस बात का सबूत करने का पेश करना जरुरी रहता है। अमेरिका में रहना है ट्यूशन फीस और रहने खाने के खर्चे को पूरा करने के लिए काफी होता है। एफ 1 वीजा आमतौर पर पढ़ाई की अवधि के लिए वैध रहता है। आपको वापसी की तैयारी करनी है तो 60 दिनों की छूट अवधि मिल जाती है।

वर्क वीज़ा में फाॅलो करें ये प्रोसेस

वर्क वीज़ा में वीज़ा की सबसे ज्यादा मांग होती है। H-1B वीजा इंजीनियरिंग, साइंस या कंप्यूटर प्रोग्रामिंग में स्पेशल स्किल्स वाले लोगों के लिए एक शॉर्ट-टाइम वर्क परमिट जरुरी होता है। H-1B वीजा को लेकर आपको अमेरिकी कंपनी से नौकरी की पेशकश और संबंधित सबजेक्ट में बैचलर या फिर हायर डिग्री चाहिए होता है। H-1B वीजा आमतौर पर 3 साल के लिए रहता है। अगर आपको ज्यादा समय की जरुरत पड़ी है। इसे और 3 साल के लिए बढ़ा होता है।

पी-1 वीजा

बाकी वीजा में P-1 वीजा में स्पोर्ट्स या एंटरटेनमेंट प्रोग्राम में हिस्सा लेना है तो अमेरिका जाने वाले लोग शामिल रहते हैं। जबकि O-1 वीज़ा कला, विज्ञान या एथलेटिक्स में खास कौशल रखने वाले लोगों को लेकर हो जाता है। एक्सचेंज प्रोग्राम में हिस्सा लेना है तो लोगों के लिए J-1 एक्सचेंज विजिटर वीजा रहता है।

Related Stories

No stories found.