Angkor Wat Temple: दुनिया का सबसे बड़ा हिंदू मंदिर कहां है स्थित जिसे भारत करा रहा है जीर्णोद्धार

भगवान विष्णु को समर्पित दुनिया का सबसे बड़ा मंदिर अपने आप कई रस्य संजोय रखा है। यह हिंदू मंदिर करीब 1100 साल पुराना है।
Angkor Wat Temple
Angkor Wat TempleInstagram

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। भारत आस्था का एक बड़ा केंद्र है और इसलिए यहां हिंदू देवी-देवताओं के कई छोटे और बड़े मंदिर हैं। भारत में आप हर जगह कई मंदिरों को देख सकते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि विदेशों में ऐसे बहुत से मंदिर हैं, जिन्हें दुनिया भर में जाना जाता है। जी हां, भारत से करीब 4800 किमी दूरी पर बना दुनिया का सबसे बड़ा हिंदू मंदिर जिसे आज तक शायद आप भी नहीं जानते होंगे। आज मैं आपको इस मंदिर के बारे में कुछ रोचक और ज्ञानवर्धक बातें बताऊंगा। आइए जानते हैं।

Angkor Wat Temple
Angkor Wat TempleInstagram

अंगकोर वाट मंदिर 

भगवान विष्णु का यह मंदिर दुनिया का सबसे बड़ा हिंदू मंदिर परिसर होने के साथ-साथ सबसे बड़ा धार्मिक स्मारक भी है। यह कंबोडिया के अंगकोर शहर में स्थित है। इस मंदिर का प्राचीन नाम यशोदपुर था, जिसे अब अंगकोर वाट के मंदिर के नाम से जाना जाता है। कुछ साल पहले टाइम मैगजीन ने इस मंदिर को दुनिया के टॉप फाइव अजूबों में शामिल किया था। यह मंदिर हजारों वर्ग मील में फैला है।

Angkor Wat Temple
Angkor Wat TempleInstagram

मंदिर की कला कृति 

मंदिर की दीवारों पर आप रामायण और महाभारत जैसे कई धार्मिक ग्रंथों के संदर्भ पा सकते हैं। इसके अलावा दीवारों पर उकेरी गई अप्सरा नृत्य मुद्राएं, कलाकृतियां और असुरों और देवताओं के बीच एक तूफानी समुद्र के दृश्य हैं। कहा जाता है कि भगवान इंद्र ने स्वयं इस मंदिर को अपने पुत्र के लिए एक महल के रूप में बनवाया था।

Angkor Wat Temple
Angkor Wat TempleInstagram

अंगकोर वाट मंदिर का इतिहास

अंकोरवाट मंदिर का निर्माण राजा सूर्यवर्मन द्वितीय ने 12वीं शताब्दी में करवाया था। इस मंदिर का कार्य सूर्यवर्मन द्वितीय द्वारा किया गया था, लेकिन कहा जाता है कि यह धरणींद्रवर्मन के शासनकाल के दौरान पूरा हुआ था। (5 सिद्ध मंदिर दिल्ली में) इस मंदिर के चारों ओर एक विशाल खाई है। इस मंदिर का नाम गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में भी दर्ज था।

Angkor Wat Temple
Angkor Wat TempleInstagram

रोचक तथ्य

  • यह मंदिर दक्षिण पूर्व एशियाई वस्तु कला का उत्कृष्ट उदाहरण माना जाता है।

  • यह मंदिर तीन खंडों वाले एक चबूतरे पर बना है। यहां बने गुंबद की लंबाई करीब 180 फीट है।

  • यूनेस्को ने भी इस मंदिर को वर्ल्ड हेरिटेज लिस्ट में शामिल किया है।

  • यह मंदिर कंबोडिया में मेकांग नदी के तट पर बनाया गया था।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.