Weather Update: जल्द थमेगा बारिश का दौर, अक्टूबर के पहले सप्ताह में पूरे प्रदेश से मानसून की विदाई के संकेत

Rajasthan Weather News: राजस्थान में मानसून विदाई की ओर बढ़ रहा है। दक्षिण पश्चिमी राजस्थान में मानसून अब कुछ दिनों का मेहमान है। अक्टूबर के पहले सप्ताह में मानसून की विदाई के संकेत मिल रहें है।
Rajasthan Weather
Rajasthan WeatherSocial Media

जयपुर, हि.स.। राजस्थान में मानसून अब लगभग विदाई की ओर बढ़ रहा है। प्रदेश के पूर्वी इलाकों में सक्रिय दक्षिण पश्चिमी मानसून अब कुछ दिनों का मेहमान है। मौसम विभाग ने अक्टूबर के पहले सप्ताह में पूरे प्रदेश से मानसून की विदाई के संकेत दिए हैं। पश्चिमी भागों से मानसून लगभग विदा हो चुका है लेकिन पूर्वी भागों में कम वायुदाब का क्षेत्र सक्रिय रहने के कारण मानसूनी गतिविधियां अभी सक्रिय हैं। राज्य में अभी भी बारिश का दौर लगातार जारी है और दक्षिण-पश्चिमी हिस्सों में कल देर रात कुछ जगह हल्की बारिश भी हुई।

कहीं छाए बादल कहीं रही धूप

उदयपुर, डूंगरपुर, बांसवाड़ा, चित्तौड़गढ़ के अलावा जोधपुर, फलोदी के कुछ एरिया में बुधवार देर शाम मौसम बदला और बादल छाने के बाद यहां हल्की बारिश हुई। राजसमंद, भीलवाड़ा एरिया में भी कुछ जगह बादल छाए और हल्की बूंदाबांदी हुई। राज्य के बाकी जिलों में मौसम साफ रहा और दिन में धूप रही। सहायक नदियों में पानी का बहाव तेज होने पर बीसलपुर बांध के जलस्तर में दो सेंटीमीटर बढ़ोतरी पिछले 24 घंटे में दर्ज की गई है। गुजरे 24 घंटे में बीसलपुर बांध के जलस्तर में दो सेंटीमीटर की बढ़ोतरी हुई है। सहायक नदी त्रिवेणी में पानी का बहाव तीन मीटर से ज्यादा होने पर बांध में भी पानी की आवक तेज हुई है। त्रिवेणी नदी में पानी का बहाव 2.90 मीटर पर आ गया है। सुबह बांध का जलस्तर 313.76 आरएल मीटर मापा गया है। बांध की कुल जलभराव क्षमता 315.50 आरएल मीटर है।

बंगाल की खाड़ी में बन रहा नया बड़ा मौसमी तंत्र

मौसम विशेषज्ञों ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में एक नया बड़ा मौसमी तंत्र बन रहा है। यहां एक साइक्लोन सर्कुलेशन बनेगा, जो आगे चलकर लो-प्रेशर और वेल मार्क लो-प्रेशर सिस्टम में तब्दील हो सकता है, लेकिन इस सिस्टम का राजस्थान तक असर दिखने की संभावना बहुत कम है। उत्तर-पश्चिमी हवाओं का प्रभाव बढ़ने से ये सिस्टम पश्चिमी बंगाल, उड़ीसा, झारखंड, पूर्वी उत्तर प्रदेश और पूर्वी मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों में देखने को मिल सकता है। मानसून की विदाई के बाद अब सरहदी जिले बाड़मेर, जैसलमेर में गर्मी दोबारा बढ़ने लगी है। मौसम विशेषज्ञों के मुताबिक इन क्षेत्रों में उत्तर-पश्चिमी हवाओं का प्रभाव बढ़ने से यहां अब एंटी साइक्लोन सिस्टम बन गया है। मौसम विशेषज्ञों ने यहां आने वाले दिनों में पारा एक से दाे डिग्री सेल्सियस तक बढ़ने की संभावना जताई है।

4-5 दिन पूरी तरह सूखा रह सकता मौसम

जयपुर मौसम केंद्र के निदेशक राधेश्याम शर्मा ने बताया कि राजस्थान के अधिकांश जिलों में अगले 4-5 दिन मौसम पूरी तरह सूखा रह सकता है। यहां कहीं भी तेज बारिश होने की कोई संभावना नहीं है। दक्षिण-पूर्वी हिस्से के जिले जैसे कोटा, बारां, झालावाड़, उदयपुर, बांसवाड़ा, डूंगरपुर क्षेत्र में स्थानीय स्तर पर बादल बनने से हल्की बारिश या छिटपुट स्थानों पर बूंदाबांदी हो सकती है। मौसम केंद्र के अनुसार अगले 24 घंटे में उदयपुर, डूंगरपुर, बांसवाड़ा, प्रतापगढ़ और चित्तौड़गढ़ जिलों में हल्की से मध्यम बारिश होने का अनुमान है। प्रदेश के अन्य जिलों में बादलों की आवाजाही रहने और दिन व रात के तापमान में उतार चढ़ाव रहने की संभावना है। पश्चिमी इलाकों में दिन के तापमान में उतार चढ़ाव रहने की आशंका है।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें :- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.