UPSC Results में 184वीं रैंक को लेकर दो 'आयशा' कर रहीं दावा, दोनों का रोल नंबर भी एक

UPSC Results में 184वीं रैंक को लेकर दो 'आयशा' कर रहीं दावा, दोनों का रोल नंबर भी एक

मध्य प्रदेश के देवास और अलीराजपुर में यूपीएससी परीक्षा के नतीजे घोषित होते ही जश्न शुरू हो गया। आयशा नाम की दोनों उम्मीदवारों ने घोषणा की कि उन्हें चुना गया है और बधाई स्वीकार करना शुरू कर दिया।

नई दिल्ली, रफ्तार न्यूज डेस्क। यूपीएससी परीक्षा में 184वें स्थान के लिए मध्य प्रदेश की दो उम्मीदवार दावा कर रही हैं। दोनों का नाम और रजिस्ट्रेशन नंबर एक ही है। हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि किसकी रैंक आई है। अब देश की सबसे अहम परीक्षा में एक ही रोल नंबर और टाइटल के चलते रिजल्ट को लेकर सवाल उठ रहे हैं।

दोनों ने मनाया जश्न

दरअसल, मध्य प्रदेश के देवास और अलीराजपुर में यूपीएससी परीक्षा के नतीजे घोषित होते ही जश्न शुरू हो गया। आयशा नाम की दोनों उम्मीदवारों ने घोषणा की कि उन्हें चुना गया है और बधाई स्वीकार करना शुरू कर दिया। देवास से आयशा फातिमा का बयान मजबूत माना जा रहा है। आयशा फातिमा के एडमिट कार्ड पर क्यूआर कोड भी दिखाई दे रहा है जबकि अलीराजपुर आयशा से पर एडमिट कार्ड पर क्यूआर कोड नहीं है।

अलीराजपुर से आयशा को यूपीएससी का मेल मिला

दोनों उम्मीदवारों का एक ही रजिस्ट्रेशन नंबर 7811744 है। दोनों का एक ही नाम होने के कारण यह स्थिति बताई जा रही है। इस बीच, अलीराजपुर की आयशा को भी यूपीएससी से एक ईमेल मिला जिसमें बताया गया कि उनके नाम में परिवर्तन किया गया है क्योंकि तीन लोगों का पहला नाम एक जैसा था।

10-12 घंटे तक की यूपीएससी की तैयारी

आयशा फातिमा के पिता का नाम नजीरुद्दीन है जो देवास के रहने वाले हैं और अलीराजपुर के आयशा के पिता का नाम सलीमुद्दीन है। आयशा फातिमा ने कहा कि उन्होंने यूपीएससी निकालने के लिए रोजाना 10-12 घंटे पढ़ाई की। उन्होंने हाई स्कूल और हायर सेकेंडरी में भी बहुत अच्छे नंबर प्राप्त किए थे। जिसके बाद उन्होंने इंजीनियरिंग की पढ़ाई की और फिर सिविल सेवा के लिए तैयारी की। 184वीं रैंक पर उनके पास आईपीएस टीम में शामिल होने का पूरा मौका है।

विस्तृत ख़बरों के लिए क्लिक करें - www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.