अंग्रेजों के छक्के छुड़ाने वाले Yashaswi Jaiswal घर न होने से मैदान में सोते थे, वहां का माली पीटता था

Yashasvi Jaiswal Lifestyle: इंग्लैंड के साथ दूसरे टेस्ट मैच में विशाखापट्टनम में टीम इंडिया के युवा खिलाड़ी यशस्वी जयसवाल ने कमाल की बल्लेबाजी। इस खिलाड़ी ने 209 रनों की पारी खेली।
यशस्वी जायसवाल।
यशस्वी जायसवाल।@BCCI एक्स सोशल मीडिया।

नई दिल्ली, रफ्तार। इंग्लैंड के साथ दूसरे टेस्ट मैच में विशाखापट्टनम में टीम इंडिया के युवा खिलाड़ी यशस्वी जयसवाल ने कमाल की बल्लेबाजी। इस खिलाड़ी ने 209 रनों की पारी खेली। इस पर क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने ट्वीट कर खिलाड़ी को बधाई दी। पूर्व भारतीय ऑलराउंडर इरफान पठान का भी एक ट्वीट तेजी से वायरल हो रहा है। इरफान ने ट्वीट किया-घर न होने के कारण मैदान में सोने वाला लड़का आज बड़ी खिड़कियों को मैदान में जगा भी रहा है। वेल प्लेड यशस्वी जयसवाल। इसके अलावा सोशल मीडिया यूजर्स लगातार अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं।

अपने बीते समय को याद कर आंखों में आंसू

पिछले साल यशस्वी ने इंटरव्यू में कहा था कि उनकी जिंदगी आसान नहीं थी। बंजारे की तरह टेंट में रातें गुजारते थे। लाइट नहीं होती थी। पैसे इतने थे नहीं कि बेहतर जगह रह सके। मैदान पर बने टेंट में रहने के लिए मेहनत करनी पड़ती थी। टेंट में सोने को जगह मिल जाती थी तो वहां के माली कई बार पीट देते थे। यशस्वी यह वाकया बताते हुए भावुक हो गए थे। उनकी आखों में आंसू थे।

जीवन का टर्निंग प्वाइंट

यशस्वी का संघर्ष और लंबा होता। मगर, उनकी जिंदगी में एक कोच आते हैं। फिर एक सुनहरा सफर शुरू होता है। 2013 दिसंबर में कोच ज्वाला सिंह की मुलाकात यशस्वी से हुई। कोच का कहना है कि जब मैं उनसे मिला तो मुझे उसमें अपनी छवि दिखी थी। मैं भी गोरखपुर से ऐसे ही क्रिकेटर बनने आया था। रमाकांत आचरेकर सर के पास क्रिकेट के ककहरे सीखे। एक-एक रुपए के लिए भटका, लेकिन जब मैं यशस्वी से मिला तो ठाना कि यह बच्चा ज्वाला (मेरी तरह) की तरह क्रिकेटर बनने से चूकना नहीं चाहिए। मैंने उसे अपने घर में रखने का फैसला किया।

राजस्थान रॉयल्स और मुंबई ने किया इन्वेस्टमेंट

ज्वाला के अनुसार यशस्वी को साल 2013 से साल 2022 तक खुद के पास रखा। यशस्वी के यहां तक पहुंचने में जितनी मेरी भूमिका है, उतना श्रेय मुंबई क्रिकेट एसोसिएशन और राजस्थान रॉयल्स को भी जाता है। बता दें यशस्वी के लिए पहला आईपीएल सीजन कुछ खास नहीं रहा था। इसके बावजूद फ्रेंचाइजी ने युवा ओपनर को टीम में रखा। दूसरी ओर शुरुआती रणजी मैचों में कुछ खास नहीं करने के बावजूद मुंबई टीम ने लगातार उन्हें टीम के साथ रखकर ग्रूम किया।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.