HBD Sachin Tendulkar: सचिन के वो 5 रिकार्ड, जिन्हें तोड़ना नामुमकिन! इंजरी के कारण देखा था सबसे बुरा दौर

Sachin Tendulkar Records: सचिन तेंदुलकर अपने टेस्ट के शतकों के बराबर उम्र के हो गए हैं। मतलब क्रिकेट के भगवान 51 साल के हो चुके हैं।
सचिन तेंदुलकर।
सचिन तेंदुलकर। @Shebas_10dulkar एक्स सोशल मीडिया।

नई दिल्ली, रफ्तार। दुनिया के सबसे महान क्रिकेटर यानी सचिन तेंदुलकर का आज जन्मदिन है। 24 अप्रैल 1973 को सचिन का जन्म हुआ था और आज वह 51 साल के हो गए। इन्हें क्रिकेट का भगवान कहा जाता है। इसकी कई वजह हैं। दरअसल, सचिन ने कुछ ऐसे रिकॉर्ड बनाए हैं, जिन्हें शायद कोई खिलाड़ी बना सके। सचिन के रिटायरमेंट के 11 साल बाद भी उन रिकॉर्ड को कोई तोड़ नहीं सका है।

100 शतक लगाने के साथ लिया था संन्यास

सचिन ने इंटरनेशनल क्रिकेट में 100 शतक जड़ने के साथ संन्यास ले लिया था। यह ऐसा रिकॉर्ड है, जो शायद कोई बल्लेबाज तोड़ पाए। उन्होंने 664 इंटरनेशनल मैचों में 10 शतक लगा हैं। दूसरे नंबर पर विराट कोहली हैं, जो 20 शतक पीछे हैं। 24 साल इंटरनेशनल क्रिकेट खेलने वाले सचिन ने टेस्ट में 51 और वनडे में 49 शतक ठोके हैं। अगर, कोहली को यह रिकॉर्ड तोड़ना है तो उन्हें 21 शतक और जड़ने होंगे। जो फिलहाल संभव नहीं लग रहा है।

200 टेस्ट मैच खेले हैं

सचिन ने टेस्ट क्रिकेट में 15921 रन बनाए हैं। अन्य बल्लेबाज 14 हजार टेस्ट रन नहीं बना पाया है। उन्होंने अपने 15921 रनों में 53.78 की औसत से रन बनाए। इस दौरान टेस्ट क्रिकेट के तमाम अद्भुत रिकॉर्ड उनके नाम दर्ज हैं। सचिन ने 16 साल की उम्र में टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू किया था। वह 40 साल तक खेले। उन्होंने 200 टेस्ट मैच खेले। जो उन रिकॉर्ड में एक है, जिसके टूटने की उम्मीद नहीं है।

दोहरा शतक लगाने वाले पहले बल्लेबाज

सचिन के नाम सबसे अधिक वनडे मैच खेलने का भी रिकॉर्ड है। उन्होंने 463 वनडे मैच खेलने के बाद संन्यास लिया है। उनके बाद जयवर्धने हैं, जिन्होंने 448 मैच खेले हैं। तेंदुलकर ने अपना आखिरी वनडे साल 2012 में खेला था। टेस्ट की तरह वनडे क्रिकेट में भी सचिन ने सबसे अधिक रन बनाए हैं। उन्होंने वनडे कॅरियर से संन्यास 44.83 की औसत से 18426 रन बनाने के बाद लिया था। वह वनडे में दोहरा शतक लगाने वाले पहले पुरुष बल्लेबाज थे।

इंजरी ने लगभग खत्म कर दिया था सचिन का कॅरियर

सचिन साल 2004-06 के दौरान सचिन तेंदुलकर अपने सबसे मुश्किल दौर से तब गुजरे थे जब टेनिस एल्बो इंजरी ने उनके कॅरियर को लगभग खत्म कर दिया था। इस इंजरी के कारण सचिन बल्ले तक सही से नहीं पकड़ पा रहे थे। इस दौरान उन्होंने 18 टेस्ट मैचों में 41 और 24 वनडे मैचों में केवल 35 की औसत से बल्लेबाजी की थी। उनको कई इंजरी हुई, लेकिन इस इंजरी के कारण उन्हें कोहनी की टेंडन की सूजन ने उनके प्रदर्शन पर बेहद बुरा असर डाला था।

इंजरी के बाद ऐतिहासिक कमबैक

सचिन के लिए इस इंजरी के बाद फैंस ने उनके लिए एंडुलकर जैसे शब्दों का इस्तेमाल किया था। मतलब उनका करियर एंड हो गया है। हालांकि इस इंजरी के बाद दुनिया को नया सचिन मिला, जिसने कमबैक किया और अगले छह वर्षों तक नए जोश के साथ खेले। सचिन ने कई महान रिकॉर्ड बनाए। वनडे क्रिकेट में पहला दोहरा शतक लगाया। वनडे वर्ल्ड कप जीता और 100वां इंटरनेशनल शतक लगाया।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.