IPL का आनंद होगा दोगुना; छा गए गुरु..., ठोको ताली...,नवजोत सिंह सिद्धू बढ़ाएंगे फैंस का जोश

Navjot Singh Sidhu Back in Commentary: आईपीएल का यह सीजन बेहद रोमांचक होने के साथ मजेदार भी होगा। फैंस को बेहतरीन कॉमेंट्री सुनने को मिलेगी।
पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू।
पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू। @PunjabKingsIPL एक्स सोशल मीडिया।

नई दिल्ली, रफ्तार। आईपीएल का यह सीजन बेहद रोमांचक होने के साथ मजेदार भी होगा। फैंस को बेहतरीन कॉमेंट्री सुनने को मिलेगी। कॉमेंट्री के सरदार कहे जाने वाले नवजोत सिंह सिद्धू फिर क्रिकेट की दुनिया में वापसी कर रहे हैं। सिद्धू IPL 2024 में कॉमेंट्री करेंगे। इसकी जानकारी स्टार स्पोर्ट्स ने सोशल मीडिया अकाउंट पर पोस्ट डालकर दी है। लिखा-सरदार ऑफ कॉमेंट्री बॉक्स इज बैक। सिद्धू ने भी ट्वीट को शेयर किया है। बता दें, सिद्धू शुक्रवार को पंजाब के राज्यपाल बीएल पुरोहित से चंडीगढ़ में मिलने पहुंचे थे। उन्होंने कहा था कि वह इस बार लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे।

कॉमेंट्री छोड़ने से हो रहा था फाइनेंशियन नुकसान : सिद्धू

उन्होंने यह बात जरूर कही थी कि क्रिकेट की कॉमेंट्री छोड़ने के कारण उन्हें फाइनेंशियल नुकसान हो रहा है। मुश्किल समय में किरदार की पहचान होती है। गौरतलब है कि सिद्धू ने आखिरी बार IPL 2018 में कॉमेंट्री की थी। पंजाब सरकार में मंत्री बनने के बाद वह क्रिकेट कॉमेंट्री पैनल से बाहर हुए थे। फिर उन्होंने सारे टीवी शो भी छोड़ दिए थे।

कॉमेंट्री में लौटने के कारण क्या?

राजनीतक जानकार बताते हैं कि सिद्धू कांग्रेस में बिल्कुल अलग पड़ गए थे। पंजाब प्रदेश कांग्रेस में उन्हें तवज्जो नहीं मिल रही थी। वह 2 महीने से पार्टी से बिल्कुल अलग थे। पार्टी हाईकमान में उनकी पैठ कमजोर पड़ चुकी थी। वह लोकसभा चुनाव लड़ेंगे नहीं और पंजाब विधानसभा चुनावों में 3 साल का समय बचा है। ऐसे में सिद्धू ने टीवी की दुनिया में वापसी की राह चुन ली है।

भारतीय टीम से खेला था अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट

सिद्धू के पिता सरदार भगवंत सिंह क्रिकेटर थे। उनकी इच्छा थी कि उनका बेटा भी क्रिकेटर बने। पिता की इस इच्छा पूरी करने के लिए सिद्धू क्रिकेट में आ गए। बता दें नवजोत सिंह सिद्धू ने भारतीय टीम के लिए 1983 से 1999 के बीच अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेले थे। वह ओपनिंग बैटर थे। उन्होंने 51 टेस्ट और 136 वनडे मैच खेले हैं। उन्होंने टेस्ट की 78 पारियों में 42.13 की औसत से 3202 रन बनाए थे। इनमें 9 शतक और 15 अर्धशतक भी शामिल हैं। वनडे की 127 पारियों में 37.08 की औसत से 4413 रन बनाए। इनमें 6 शतक और 33 अर्धशतक भी जुड़े हैं।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.