IND Vs ENG: टीम इंडिया आज काली पट्टी बांधकर मैदान पर उतरी, BCCI ने एक दिन बाद सुधारी अपनी गलती

IND Vs ENG 3rd Test: टीम इंडिया और इंग्लैंड के बीच पांच मैचों की टेस्ट सीरीज का तीसरा मुकाबला राजकोट में खेला जा रहा है। मैच के तीसरे दिन आज इंडिया के खिलाड़ी बाजुओं पर काली पट्टी बांध मैदान पर उतरे।
बाजु पर काली बांधी बांधे खिलाड़ी एवं दूसरे हिस्से में दत्ताजीराव गायकवाड़।
बाजु पर काली बांधी बांधे खिलाड़ी एवं दूसरे हिस्से में दत्ताजीराव गायकवाड़।

नई दिल्ली, रफ्तार। टीम इंडिया और इंग्लैंड के बीच पांच मैचों की टेस्ट सीरीज का तीसरा मुकाबला राजकोट में खेला जा रहा है। मैच के तीसरे दिन आज टीम इंडिया के खिलाड़ी अपनी बाजुओं पर काली पट्टी बांधकर मैदान पर उतरे। दरअसल, भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने अपनी गलती सुधारी है। टीम ने अपने पूर्व कप्तान एवं भारत के सबसे उम्रदराज क्रिकेटर दत्ताजीराव गायकवाड़ (Dattajirao Gaekwad) को श्रद्धांजलि दी है।

देश के सबसे उम्रदराज कप्तान को दी श्रद्धांजलि

टीम के लिए खिलाड़ी आज जब मैदान पर उतरे तो उनके आर्म पर काली पट्टी बंधी थी। उन्होंने ऐसा दत्ताजीराव गायकवाड़ के सम्मान में किया। बीसीसीआई ने X (पूर्व में ट्विटर) पर लिखा-टीम इंडिया भारत के पूर्व कप्तान एवं सबसे उम्रदराज टेस्ट क्रिकेटर दत्ताजीराव के सम्मान में काली पट्टी पहनेगी, जिनका हाल में निधन हो गया।

इंग्लैंड दौरे पर भारत टीम के थे कप्तान

दत्ताजीराव गायकवाड़ (Dattajirao Gaekwad) का मंगलवार को निधन हुआ था। उनकी आयु 95 थी। वह कुछ समय से बीमारियों से जूझ रहे थे। पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज एवं नेशनल टीम के कोच अंशुमान गायकवाड़ के पिता थे। उन्होंने 12 दिनों तक बड़ौदा के एक अस्पताल में जिंदगी और मौत से जूझने के बाद अंतिम सांस ली। उन्होंने 1952 और 1961 के बीच भारत के लिए 11 टेस्ट मैच खेले थे। उन्होंने 1959 में इंग्लैंड दौरे पर भारतीय टीम की कप्तानी की थी।

249 रन था हाई स्कोर

दाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने 1952 में लीड्स में इंग्लैंड के खिलाफ डेब्यू किया था। उनका अंतिम अंतरराष्ट्रीय मैच 1961 में चेन्नई में पाकिस्तान के विरुद्ध था। गायकवाड़ ने रणजी ट्रॉफी में 1947 से 1961 तक बड़ौदा का प्रतिनिधित्व किया। उन्होंने 47.56 की औसत से 3139 रन बनाए। इसमें 14 शतक थे। उनका हाई स्कोर 1959-60 सत्र में महाराष्ट्र के विरुद्ध नाबाद 249 रन था।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.