Shaun Marsh लेंगे संन्यास, IPL पहले सीजन में बनाया था ऐतिहासिक रिकॉर्ड

Shaun Marsh Announces Retirement: ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम के स्टार बल्लेबाज शॉन मार्श ने संन्यास ले लिया है। उन्होंने 13 जनवरी को बीबीएल की टीम रेनेगेड्स को जीत दिलाने के बाद अपने दिल की बात बताई।
 शॉन मार्श।
शॉन मार्श। @mufaddal_vohra एक्स सोशल मीडिया।

नई दिल्ली, रफ्तार। ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम के स्टार बल्लेबाज शॉन मार्श ने संन्यास ले लिया है। उन्होंने शनिवार (13 जनवरी) को बीबीएल की अपनी टीम रेनेगेड्स को जीत दिलाने के बाद अपने दिल की बात बताई। उन्होंने मैच बाद कहा कि सिडनी थंडर के विरुद्ध बुधवार को खेला जाने वाला मुकाबला उनके क्रिकेट कॅरियर का आखिरी मुकाबला होगा। मार्श का जन्म 09 जुलाई 1983 में ऑस्ट्रेलिया के नैरोगिन शहर में हुआ था। वह 40 साल के हैं।

IPL फर्स्ट सीजन में ऑरेंज कैप पर जमाया था कब्जा

शॉन मार्श ने आईपीएल के पहले सीजन में ही जलवा बिखेरा था। उन्होंने 71 मैच खेलकर 69 पारियों में 39.95 की औसत से 2477 रन बनाए थे। उनके नाम एक शतक और 20 अर्धशतक दर्ज हैं। उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर 115 है। आईपीएल के पहले सीजन में ऑरेंज कैप पाया था। वह 2008 में किंग्स इलेवन पंजाब (वर्तमान में पंजाब किंग्स) की टीम का हिस्सा थे। उन्होंने पहले सीजन में पंजाब के लिए 11 मैच खेले थे। 11 पारियों 68.44 की औसत से 616 रन बनाए थे। आईपीएल 2008 में उनका स्ट्राइक रेट 139.68 था।

ऑस्ट्रेलिया के लिए कैसा रहा प्रदर्शन?

आईपीएल में बेहतरीन प्रदर्शन की बदौलत मार्श ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम में शामिल हुए थे। 11 साल के इंटरनेशनल कॅरियर में अपनी टीम के लिए 38 टेस्ट, 73 वनडे और 15 टी-20 मुकाबलों में शिरकत की। उनके बल्ले से टेस्ट क्रिकेट की 68 पारियों में 34.32 की औसत से 2265, वनडे में 40.78 की औसत से 2773 और टी-20 में 18.21 की औसत से 255 रन बनाए हैं। मार्श के नाम इंटरनेशनल क्रिकेट में 13 शतक और 25 अर्धशतक दर्ज है।

साउथ अफ्रीका के ओपनर डीन एल्गर ने लिया संन्यास

साउथ अफ्रीका के ओपनर डीन एल्गर ने टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले लिया है। भारत के विरुद्ध दो टेस्ट मैचों की सीरीज से पहले एल्गर ने यह ऐलान किया था। केपटाउन टेस्ट उनके कॅरियर का आखिरी मुकाबला था। वैसे, रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा कि साउथ अफ्रीका के कोच शुक्री कॉनराड एल्गर को टीम में नहीं रखना चाहते थे। डीन एल्गर को कोच टीम में शामिल करने को तैयार नहीं थे। उन्होंने इसके बादकोच शुक्री के सामने ऑफर रखा। इसमें एल्गर ने कहा, क्या उन्हें घरेलू फैंस के सामने अपनी अंतिम सीरीज खेलने का मौका मिल जाएगा? भारत के विरुद्ध सीरीज में खेलने के लिए एल्गर ने टेस्ट क्रिकेट को अलविदा किया। शुक्री कॉनराड के कोच बनने के बाद ही एल्गर को कप्तानी से हटना पड़ा था।

खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.