तकनीकी रूप से पहले से बेहतर होना चाहता हूं: नीरज चोपड़ा

नीरज 5 मई को दोहा डायमंड लीग में अपने 2023 एथलेटिक्स सीजन की शुरुआत करेंगे। वह वर्तमान डायमंड लीग चैंपियन है।
तकनीकी रूप से पहले से बेहतर होना चाहता हूं: नीरज चोपड़ा

नई दिल्ली, एजेंसी। भारत के स्टार भाला फेंक खिलाड़ी और ओलंपिक पदक विजेता नीरज चोपड़ा ने सोमवार को कहा कि उनका लक्ष्य तकनीकी रूप से पहले से बेहतर होना है। साथ ही कहा कि उन्होंने अपने खेल में बिताए वर्षों में ओलंपिक जैसे हाई-प्रोफाइल इवेंट्स में दबाव और फ़ोकस को प्रबंधित करना सीख लिया है।

दोहा डायमंड लीग से करेंगे सीजन की शुरुआत
नीरज 5 मई को दोहा डायमंड लीग में अपने 2023 एथलेटिक्स सीजन की शुरुआत करेंगे। वह वर्तमान डायमंड लीग चैंपियन है। उन्होंने यह ट्रॉफी पिछले साल सितंबर में ज्यूरिख में जीता था और यह खिताब जीतने वाले पहले भारतीय बने थे। नीरज चोपड़ा 2023 डायमंड लीग सीज़न के दोहा, लुसाने, मोनाको और ज्यूरिख लेग्स में प्रतिस्पर्धा करेंगे, ताकि यूजीन, यूएस में इस साल के फाइनल के लिए क्वालीफाई किया जा सके। चीन में 23 सितंबर से शुरू हो रहे एशियन गेम्स और वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप जैसे हाई-प्रोफाइल इवेंट्स भी चोपड़ा के 2023 सीजन का हिस्सा हैं।

पहले से बेहतर बनने की कोशिश
नीरज चोपड़ा ने ओलिंपिक डॉट कॉम से बातचीत में कहा "तैयारी वास्तव में अच्छी रही है। हम अपनी ताकत पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। अब, हम तकनीकी पहलू पर काम कर रहे हैं और दोहा (डायमंड लीग) से पहले चीजों को ठीक करने की कोशिश कर रहे हैं। सितंबर-अक्टूबर में एशियाई खेलों के साथ यह एक लंबा सीजन होने जा रहा है। इसलिए मैं खुद को तकनीकी रूप से पहले से बेहतर बनाना चाहता हूं।" वह एशियाई खेलों के वर्तमान चैंपियन भी हैं, जिन्होंने जकार्ता, इंडोनेशिया में खेलों के 2018 संस्करण में स्वर्ण पदक हासिल किया था। नीरज ने पिछले साल अमेरिका के यूजीन में हुई विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में भी रजत पदक जीता था और इस बार उनका लक्ष्य स्वर्ण पर होगा। चैंपियनशिप का 2023 संस्करण 19 अगस्त से 27 अगस्त तक बुडापेस्ट, हंगरी में आयोजित किया जाना है। ओलंपिक चैंपियन, जो अपने क्षेत्र में भारत के राष्ट्रीय रिकॉर्ड धारक भी हैं, ने चोट के कारण पिछले साल ज्यूरिख में अपनी जीत के बाद से किसी कार्यक्रम में भाग नहीं लिया है। परिणामस्वरूप वह पिछले साल जुलाई से अगस्त तक बर्मिंघम में आयोजित राष्ट्रमंडल खेलों से चूक गए थे। पेरिस 2024 ओलंपिक आने के साथ, यह सीज़न नीरज के लिए महत्वपूर्ण है और प्रशंसकों की उम्मीदों से भरा है। उन्होंने कहा, "मुझे पता है कि पेरिस 2024 से दबाव और उम्मीदें बहुत अधिक होंगी, लेकिन इन सभी वर्षों में, मैंने सीखा है कि कैसे खुद को बनाए रखना है और कैसे बड़ी प्रतियोगिताओं पर ध्यान केंद्रित करना है और ओलंपिक जैसे बड़े मंचों पर कैसे प्रदर्शन करना है।"

2022 में जीते कई पदक
2022 नीरज के लिए एक अद्भुत वर्ष था। जून में, उन्होंने एक नया राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाया और फ़िनलैंड में पावो नूरमी खेलों में 89.30 मीटर की थ्रो के साथ रजत पदक जीता, साथ ही 88.07 मीटर के अपने पिछले राष्ट्रीय रिकॉर्ड को बेहतर किया, जो उन्होंने पिछले साल मार्च में पटियाला में बनाया था। जून में फिर से, उन्होंने एक और शानदार प्रदर्शन करते हुए फ़िनलैंड में 2022 कुओर्टेन गेम्स में 86.69 मीटर दूरी के साथ स्वर्ण पदक जीता। जुलाई में विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में, नीरज चोपड़ा ने पदक जीतने वाले केवल दूसरे भारतीय और पहले पुरुष ट्रैक और फील्ड एथलीट बनकर इतिहास रच दिया। वह दूसरे स्थान पर रहे और 88.13 मीटर के थ्रो के साथ विश्व पदक जीतने के अपने लक्ष्य को साकार करते हुए रजत पदक जीता। अंजू बॉबी जॉर्ज ने नीरज से पहले लंबी कूद प्रतियोगिता में भारत के लिए कांस्य पदक जीता था। सितंबर में, चोपड़ा ने 88.44 मीटर के सर्वश्रेष्ठ थ्रो के साथ प्रतिष्ठित डायमंड लीग ट्रॉफी जीत कर इतिहास रच दिया। वह यह खिताब जीतने वाले पहले भारतीय बने।

Related Stories

No stories found.