need-to-win-for-confidence-in-team-du-plessis
need-to-win-for-confidence-in-team-du-plessis

टीम में आत्मविश्वास के लिए जीत की जरूरत थी : डु प्लेसिस

पुणे, 5 मई (आईएएनएस)। रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के कप्तान फाफ डु प्लेसिस ने बुधवार को लगातार तीन मैच हारने के बाद पुणे के एमसीए स्टेडियम में चेन्नई सुपर किंग्स पर 13 रन से जीत हासिल की। साथ ही उन्होंने कहा कि इस जीत से प्लेऑफ में जगह बनाने में मदद मिलेगी। वहीं, अब बैंगलोर अंक तालिका में चौथे स्थान पर है। डु प्लेसिस ने कहा, हमें निश्चित रूप से इस जीत की जरूरत थी। यह जीत टीम में आत्मविश्वास बढ़ाएगी। खिलाड़ी रन बनाने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं। मुझे लगता है कि हम निश्चित रूप से बल्लेबाजी लाइनअप के साथ सही दिशा में आगे बढ़ रहे हैं और खिलाड़ियों को जो आत्मविश्वास मिल रहा है, उससे हमें आगे बढ़ने में मदद मिलेगी। टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए बैंगलोर ने 173/8 रन बनाए थे और विशेष रूप से गेंदबाज हर्षल पटेल, ग्लेन मैक्सवेल और जोश हेजलवुड ने चेन्नई को 160/8 पर रोक कर अच्छा प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा, गेंदबाजी विभाग पूरे टूर्नामेंट में बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं, इसलिए ज्यादा से ज्यादा रन बनाकर गेंदबाजों का समर्थन करना होगा। डु प्लेसिस ने कहा, मैंने सोचा था कि 165 एक अच्छा स्कोर होगा, लेकिन इससे ऊपर कुछ रन बनाना टीम के लिए बेहतर होगा। पावरप्ले में उन्होंने अच्छी शुरुआत की थी, लेकिन एक बार जब हमें दो विकेट मिल गए, तो मुझे लगा कि अब हम अच्छी स्थिति में आ गए हैं। डु प्लेसिस ने आगे फिल्डिंग प्रयासों की प्रशंसा की और खुलासा किया कि बैंगलोर ऑन-फील्ड पर प्रदर्शन करने के मामले में अच्छा हो रहा है। पावर-प्ले में कोई विकेट नहीं गंवाने के बाद बैंगलोर 79/3 पर हो गया था, इससे पहले महिपाल लमरोर ने 27 गेंदों में 42 रन बनाए और दिनेश कार्तिक ने नाबाद 17 गेंदों में 26 रन बनाकर पारी को समाप्त किया। लेकिन डु प्लेसिस अभी भी आने वाले मैचों में बल्लेबाजों से अधिक प्रयास चाहते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि टीम में नेट रन रेट के बारे में ज्यादा चर्चा नहीं हुई है। एक बार जब आपको मैच में मौका मिलता है, तो आप प्रदर्शन करने के बारे में सोचते हैं, लेकिन यह ज्यादा जरूरी है कि हम जीत हासिल करें। अगर हमें जीत मिलती है, तो हम अंक तालिका में अपने नेट रन रेट को बेहतर कर पाएंगे। --आईएएनएस आरजे/एसकेपी

Related Stories

No stories found.