BCCI Contract: ईशान किशन और श्रेयस अय्यर को टीम से बाहर किए जाने पर भड़का क्रिकेटर, कहा-जबर्दस्ती अपना फैसला...

BCCI Contract Row: भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) द्वारा सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट से ईशान किशन और श्रेयस अय्यर को बाहर किए जाने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है।
BCCI Contract: ईशान किशन और श्रेयस अय्यर को टीम से बाहर किए जाने पर भड़का क्रिकेटर, कहा-जबर्दस्ती अपना फैसला...

नई दिल्ली, रफ्तार। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) द्वारा सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट से ईशान किशन और श्रेयस अय्यर को बाहर किए जाने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। क्रिकेट फैंस के गुस्से के बाद अब क्रिकेटर की इस पर तल्ख प्रतिक्रिया आई है। रिद्धिमान साहा ने कहा है कि कोई क्रिकेटर घरेलू क्रिकेट में नहीं खेलना चाहता तो कुछ भी 'जबरदस्ती' नहीं किया जा सकता।

खिलाड़ियों का व्यक्तिगत निर्णय: रिद्धिमान साहा

हालांकि, रिद्धिमान साहा ने कहा कि घरेलू क्रिकेट आधार है और हर खिलाड़ी को आगे बढ़ने के लिए इसे पर्याप्त महत्व देना चाहिए। बता दें भारतीय क्रिकेट बोर्ड (BCCI) ने बयान जारी कर कहा था कि एनुअल सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट के लिए ईशान और अय्यर के नाम पर विचार नहीं किया गया। साहा ने ईशान और श्रेयस अय्यर को बाहर किए जाने पर कहा है कि यह बीसीसीआई (BCCI) का फैसला है और संबंधित खिलाड़ियों का व्यक्तिगत निर्णय है। आप जबरदस्ती कुछ नहीं कर सकते।

वनडे वर्ल्ड कप टीम का हिस्सा थे ईशान और अय्यर

दरअसल, दोनों खिलाड़ी भारतीय टीम का हिस्सा थे। ईशान और श्रेयस पिछले साल वनडे वर्ल्ड कप में भी टीम का हिस्सा थे। ईशान आखिरी बार दिसंबर 2023 में भारत के साउथ अफ्रीका दौरे के दौरान टेस्ट टीम का हिस्सा थे। वहीं, अय्यर ने इंग्लैंड के खिलाफ खेली जा रही 5 मैचों की मौजूदा सीरीज के पहले दो टेस्ट खेले थे। साहा ने कहा कि एक क्रिकेटर को हर मैच को समान महत्व देना चाहिए। उन्होंने कहा कि जब भी मैं फिट होता हूं, मैं खेलता हूं। यहां तक मैंने क्लब मैच भी खेले हैं। कार्यालय के मैच भी खेले हैं। मैं हमेशा एक मैच को एक मैच की तरह लेता हूं। मेरे लिए सभी मैच बराबर हैं। अगर, हर खिलाड़ी इस तरह से सोचता है तो वह अपने कॅरियर में केवल समृद्ध होंगे और यह भारतीय क्रिकेट के लिए भी बेहतर होगा।

सरफराज और जुरेल की तारीफ की

साहा ने कहा कि मुझे लगता है कि घरेलू क्रिकेट का महत्व हमेशा रहता है। मैं सरफराज खान की बात करूं तो उसने चार-पांच वर्षों में काफी रन बनाए हैं। निश्चित रूप से अच्छा प्रदर्शन किया है। साहा ने इस बीच युवा विकेटकीपर बल्लेबाज ध्रुव जुरेल की बल्लेबाजी को 'उत्कृष्ट' बताया। कहा कि जुरेल ने तीसरे टेस्ट में डेब्यू करते हुए 46 रनों की शानदार पारी खेली। इसके बाद रांची में चौथे टेस्ट में 90 और 39 रन बनाए, जिससे उन्हें मैच के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी का पुरस्कार मिला। साहा ने कहा कि मैंने उन्हें (जुरेल) घरेलू क्रिकेट में खेलते हुए नहीं देखा। यहां तक कि टेस्ट मैचों में भी उसकी पारी के मुख्य पार्ट देखे हैं, लेकिन उसकी बल्लेबाजी शानदार है। उसने टीम के लिए पिछला टेस्ट जीता।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.