Iran-Israel Tension: ईरान ने इजरायल पर किया सीधा हमला, दोनों तरफ से दागी गई मिसाइलें; ईरान ने फूंके करोड़ों

Iran-Israel Tension: इंटरसेप्शन की तकनीक से इजाइल ने किया अपना बचाव। ईरान के दर्जनों ड्रोन हुए नेस्तनाबूत। इजराइल ने ईरान के हमले को किया रडार के बाहर।
Iran attack Israel
Iran attack IsraelIran attack Israel

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। 13 अप्रैल की रात इजराइल के लिए काफी खौफनाक रही। इस रात ईरान ने इजराइल पर 300 से ज्यादा मिसाइल और ड्रोन से हमला किया। इजराइल ने पहले दमिश्क दूतावास पर हमला बोला जिसका जवाब ईरान ने इस तरह दिया। बता दें कि दूतावास पर हुए हमले में 11 लोगों की मौत हुई थी।

हमले में ईरान के शाहेद-136 आत्मघाती ड्रोन्स शामिल

हमले में ईराक के शाहेद-136 आत्मघाती ड्रोन्स शामिल थे। हमले में शामिल ड्रोन्स की खास बात है कि यह 2000 किलोमीटर की दूरी तक जा सकते हैं। साथ ही वजह ले जाने की क्षमता की इनकी 50 किलो है।

इजराइल पर एमाद बैलिस्टिक मिसाइल से भी हुआ हमला

इसके अलावा इजराइल पर एमाद बैलिस्टिक मिसाइल से भी हमला किया गया। इसकी रेंज 1500 किलोमीटर से भी ज्यादा है। हमले में पवेह क्रूज मिसाइलों का भी इस्तेमाल किया गया। इनकी क्षमता भी 1500 किलोमीटर दूर तक हमला करने की है।

इजराइल ने एयर डिफेंस प्रणाली से 99 फीसदी हवाई खतरों को मार गिराया

हालांकि जिस तरह का घातक हमला इजराइल पर किया गया उसे इजराइल ने बखूबी लड़ा। इजराइल ने अपनी एयर डिफेंस प्रणाली से 99 फीसदी हवाई खतरों को मार गिराया। करीब 100 से ज्यादा आत्मघाती ड्रोन्स को इजराइल के आयरन डोम और एरो-3 हाइपरसोनिक सरफेस-टू-एयर मिसाइल सिसटम ने मार गिराया। इसके अलावा ईरान की तरफ से दागी गई 36 क्रूज मिसाइल भी इजराइल ने मार गिराई। सिर्फ सात बैलिस्टिक मिसाइलों को इजराइल नहीं गिरा पाया।

हमले में प्रयोग की गईं 110 बैलिस्टिक मिसाइलें

ईरान ने हमले में जिन हथियारों का इस्तेमाल किया वह कम महंगे नहीं। हमले में प्रयोग की गईं 110 बैलिस्टिक मिसाइलों की कीमत 250 से 417 करोड़ रुपए, 36 से 45 क्रूज मिसाइल की कीमत 33 से 58 करोड़ रुपए, 170 ड्रोन की कीमत 33 से 54 करोड़ रुपए रही। कुल मिलाकर बात करें तो ईरान ने हमले में करीब 520 करोड़ रुपए खर्च किए तो वहीं इजराइल ने 92 हज़ार करोड़ रुपए खुद को बचाने में खर्च कर डाले।

क्या होता है इंटरसेप्शन?

जब किसी प्रकार के हवाई हमले को सीमा में दाखिल होने से पहले ही बर्बाद कर दिया जाता है तो उसे इंटरसेप्शन कहते हैं। इजराइल के आयरन डोम और एरो-3 हाइपरसोनिक सरफेस-टू-एयर मिसाइल सिसटम ने ईरान के हमले को इंटरसेप्ट किया और इजराइल का बचाव किया।

अन्य खबरों के लिए क्लिक करें:- www.raftaar.in

Related Stories

No stories found.