India-US Deal: भारत और अमेरिका के बीच हुआ ड्रोन और स्पेस को लेकर अहम समझौता, आतंकवाद पर भी कसा जाएगा शिकंजा

दोनों देशों के बीच जेट इंजन, ड्रोन और स्पेस समेत कई अहम समझौते हुए। दोनों देशों के बीच MQ-9 रीपर ड्रोन की खरीद का निर्णय लिया गया।
India-US Deal
India-US Deal

नई दिल्ली, रफ्तार डेस्क। पीएम मोदी इन दिनों अमेरिका के दौरे पर हैं। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के बीच द्विपक्षीय वार्ता हुई। बातचीत के दौरान भारत (India) और अमेरिका (US) के बीच कई समझौते हुए। व्हाइट हाउस में पीएम मोदी और राष्ट्रपति जो बाइडेन के बीच हुई बैठक में कई अहम फैसलों पर मुहर लगी।

भारत और अमेरिका के बीच कई समझौते

दोनों देशों के बीच जेट इंजन, ड्रोन और स्पेस समेत कई अहम समझौते हुए। दोनों देशों के बीच MQ-9 रीपर ड्रोन की खरीद का निर्णय लिया गया। इन ड्रोन्स की तैनाती से हिंद महासागर, चीनी सीमा के साथ अन्य अंतरराष्ट्रीय सीमाओं की सुरक्षा सुनिश्चित होगी। इसके साथ ही जनरल इलेक्ट्रिक और हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड ने भी एक समझौता किया। इसके तहत अब GE एयरोस्पेस HAL दोनों मिलकर भारतीय वायुसेना के लिए जेट इंजन बनाएगी।

NASA और ISRO का 2024 में होगा संयुक्त मिशन

बता दें कि गुजरात में कंप्यूटर चिप बनाने वाली कंपनी माइक्रोन ने अपना सेमीकंडक्टर असेंबली और टेस्टिंग का संयंत्र स्थापित करने का निर्णय लिया है, जिस पर लगभग 2.75 अरब डॉलर का निवेश होगा। साथ ही NASA और ISRO 2024 में अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन के लिए एक संयुक्त मिशन पर भी सहमत हुए हैं। मोदी और बाइडेन की बातचीत में ये भी निर्णय लिया गया कि अमेरिका अहमदाबाद और बेंगलुरु में दो नए वाणिज्य दूतावास खोलेगा।

पाक-चीन पर निशाना

भारत और अमेरिका की साझा प्रेसवार्ता में पीएम मोदी ने सीमा पार आतंकवाद का भी जिक्र किया। पीएम ने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ जंग में भारत और अमेरिका साथ हैं। कट्टरवाद और आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत और अमेरिका कंधे से कंधा मिलाकर चल रहे हैं। दोनों देश सहमत हैं कि सीमा पार से हो रहे आतंकवाद को समाप्त करने के लिए ठोस कार्रवाई की जरूरत है।

Related Stories

No stories found.